Date: 18/07/2024, Time:

तेरहवीं के दिन लौट आया ‘मरा’ हुआ बेटा…परिवार वालों के पैरों तले खिसकी जमीन

0

श्योपुर 10 जून। दरअसल 13 दिन पहले राजस्थान की पुलिस श्योपुर के लहचोड़ा गांव के रहने वाले 28 साल के सुरेश शर्मा के घर पहुंचती है और सुरेश के राजस्थान के सुरवाड इलाके में हुए सड़क हादसे में उसकी मौत की खबर परिजनों को देती है. परिजनों को उसकी शिनाख्त के लिए अस्पताल के शवग्रह में बुलाया जाता है. इधर जवान बेटे की सड़क हादसे में मौत की खबर सुनकर सुरेश के परिजनों को बुरा हाल हो जाता है और वे बेटे की शिनाख्त के लिए शवग्रह पहुंचते हैं. परिजन सुरेश से मिलती जुलती हुई लाश को अपने बेटे का शव मानकर उसका अंतिम संस्कार करने गांंव ले आते हैं और पूरा परिवार मातम में डूब जाता है.

दरअसल बीते दिनों सोशल मीडिया पर एक दुर्घटना की फोटो जारी की गई थी जिसमें बताया गया था कि किसी अज्ञात युवक का राजस्थान के सवाई माधोपुर के पास सुरवाल में गंभीर एक्सीडेंट हो गया है। यह फोटो जब श्योपुर जिले के लहचौड़ा स्थित दीनदयाल शर्मा के परिजनों को मिली तो उन्होंने उस दुर्घटना में घायल युवक की पहचान अपने बेटे सुरेंद्र शर्मा के रूप में की और आनन फानन में उसे इलाज के लिए जयपुर रेफर किया गया था।

परिजन जयपुर पहुंचे तो डॉक्टरों ने बताया कि इलाज के दौरान सुरेंद्र की मौत हो गई है। पोस्टमार्टम से पहले पहचान करने सहित सारी जरूरी चीजें पूरी की गई लेकिन तब भी परिवार वाले उसे पहचान नहीं पाए और पुलिस ने शव परिजनों को सौंप दिया और परिजनों ने भी 28 मई को शव का अंतिम संस्कार भी कर दिया गया। इसके बाद जब उसकी तेहरवीं की तैयारी चल रही थी तभी सुरेंद्र घर आ गया जिसे देख पूरा गांव हैरान हो गया।

तेरहवीं से एक दिन पहले सुरेंद्र का फोन उसके भाई के पास आया, पहले तो भाई ने मजाक समझा और बाद में वीडियो कॉल लगाने के लिए बोला.. जब सुरेंद्र ने वीडियो कॉल लगाया तो परिजनों ने उससे बात की और घर लौट आने को बोला। इसके बाद दूसरे दिन ही सुरेंद्र घर लौट आया।

सुरेंद्र शर्मा का कहना है कि वह जयपुर शहर में कपड़े के कारखाने में सुपरवाइजर के पद पर काम करता है। पिछले महीने घर पर छुट्टी बिताकर वापस अपनी नौकरी करने जयपुर गया था। इसी दौरान मोबाइल फोन खराब हो गया और 2 महीने तक घरवालों से उसका संपर्क नहीं हो सका। वहीं, सुरेंद्र की मां कृष्णा देवी का कहना है कि पिछले दिनों जानकारी मिलने के बाद हमारे घर के लोगों ने किसी अज्ञात शव की पहचान सुरेंद्र के रूप में की और गांव लाकर अंतिम संस्कार कर दिया।

Share.

Leave A Reply