Date: 24/07/2024, Time:

यूपी के सात दारोगा समेत 30 पुलिसकर्मियों को किया निलंबित, 16 पर घूस मांगने का आरोप

0

आगरा 13 जून। पुलिस कमिश्नरेट में बुधवार को सात दारोगा समेत 30 पुलिसकर्मियों को एक साथ निलंबित कर दिया। इनमें 16 पुलिसकर्मियों पासपोर्ट रिपोर्ट लगाने के लिए घूस मांगने का आरोप है। अन्य पर सटोरिया से सांठगाठ, न्यायिक कार्य और विवेचना में लापरवाही समेत अन्य आरोप हैं। निलंबित होने वाले पुलिसकर्मियाें में पांच साइबर सेल के हैं। इनमें गुटबाजी का आरोप था।

पुलिस आयुक्त की फीड बैक सेल ने इन पुलिसकर्मियों को चिन्हित किया था। बुधवार रात को हुई कार्रवाई से विभाग में खलबली मच गई। पुलिस आयुक्त जे. रविन्दर गौड ने चुनााव से पहले बीट पुलिस अधिकारी (बीपीओ) प्रणाली लागू की थी। बीपीओ को निर्देश थे कि पासपोर्ट रिपोर्ट, चरित्र प्रमाण पत्र के बदले में घूस नहीं लेगा। बीपीओ और दारोगा की कार्यप्रणाली जानने को फीड बैक सेल बनाई थी। यहां तैनात पुलिसकर्मियाें को आवेदकों और पीड़ितों को फोन करके उनका फीड बैक लेगे।

साइबर क्राइम थाना में तैनात चार मुंशियों सहित पांच पुलिसकर्मियों की साइबर अपराधियों से मिलीभगत थी। साइबर अपराध के पीड़ितों का भी मुंशी व सिपाही उत्पीड़न करते थे। साइबर क्राइम थाना में तैनात मुख्य आरक्षी अविनाश, शेर सिंह, सनी कुमार, कर्मवीर और सिपाही धर्मेंद्र शर्मा को निलंबित किया है।

पासपोर्ट सत्यापन में वसूली, फंसे 4 दरोगा और 12 सिपाही
पासपोर्ट सत्यापन के नाम पर आवेदक से अवैध वसूली करने में 4 दरोगा सहित 16 सिपाही निलंबित हुए हैं। पासपोर्ट आवेदकों से फीडबैक में 21 लोगों ने शिकायत दर्ज कराई। उनके पासपोर्ट की रिपोर्ट लगाने वाले थाना न्यू आगरा में तैनात दरोगा विनोद कुमार, हरीपर्वत में तैनात दरोगा जितेंद्र प्रताप सिंह, शाहगंज में तैनात प्रशिक्षु दरोगा प्रखर और कमला नगर में तैनात प्रशिक्षु दरोगा प्रशांत कुमार को निलंबित किया है।

ऑटो चालक से मारपीट में गिरी गाज
ऑटो चालक से मारपीट और रुपये छीनने के आरोप में थाना छत्ता में तैनात दरोगा शांतनु अग्रवाल और मुंशी संजीव कुमार को निलंबित किया है। सिपाही नकुल कुमार, सुमित कुमार, अभिषेक को भी निलंबित किया गया है। पांचों के विरुद्ध विभागीय जांच भी हो सकती है।

मुकदमे की विवेचना में फर्जीवाड़ा
न्यू आगरा में तैनात दरोगा धर्मेंद्र सिंह और प्रशिक्षु दरोगा अनंत सिंह ने मुकदमों की विवेचना में भी फर्जीवाड़ा किया। साक्ष्य आधारित विवेचना प्रणाली लागू होने के बाद भी लापरवाही बरती। आरोप है कि आरोपी पक्षों से मिलकर दरोगाओं ने धाराओं और विवेचना के तथ्यों में फेरबदल किया। दोनों को निलंबित किया गया है।

ये दरोगा हुए निलंबित
उप निरीक्षक न्यू आगरा धर्मेंद्र सिंह
प्रशिक्षु उप निरीक्षक न्यू आगरा अनंत सिंह
उप निरीक्षक थाना छत्ता शांतनु अग्रवाल
उप निरीक्षक न्यू आगरा विनोद कुमार
उप निरीक्षक थाना हरीपर्वत जितेंद्र प्रताप सिंह
प्रशिक्षु उपनिरीक्षक थाना शाहगंज प्रखर
प्रशिक्षु उपनिरीक्षक कमला नगर प्रशांत कुमार

इन पर भी गिरी भ्रष्टाचार की गाज
सिकंदरा में सिपाही पवन कुमार, देशराज कुशवाह, अमित कुमार, कमला नगर में महिला सिपाही आरती, एत्माउद्दौला में सौरभ, शाहगंज में श्यामसुंदर, न्यू आगरा में मुख्य आरक्षी राजेंद्र कुमार, हरीपर्वत में सिपाही रिंकू, अजीत और विकास, जगदीशपुरा में कुलदीप कुमार, मंटोला में सागर, न्यू आगरा में सिपाही सचिन पाल, न्यायिक कार्य में लापरवाही पर एसीपी न्यायालय में तैनात सिपाही दीपचंद्र को निलंबित किया गया है।

Share.

Leave A Reply