Date: 15/06/2024, Time:

13 राज्यों की 88 सीटों पर हुआ मतदान, 1206 प्रत्याशियों की किस्मत डिब्बों में हुई बंद, मेरठ के डीएम और एसएसपी की वोटर कर रहे थे प्रशंसा

0

भले ही भारत निर्वाचन आयोग तथा समाज के विभिन्न लोगों की अपील के बावजूद मतदान 100 प्रतिशत के नजदीक ना पहुंच पाया हो लेकिन एक बात जरूर देखने को मिली कि भयंकर गर्मी और लू की परवाह किए बिना दूसरे चरण के चुनाव में वोट डालने का उत्साह मतदाताओं में चरम पर था। क्योंकि मतदान पर्ची ना होने के बाद भी वोट डालने के लिए कई विकल्प निर्वाचन आयोग द्वारा दिए गए थे तथा पूर्व की भांति इस बार कहीं भी डर का सा माहौल नजर नहीं आ रहा था इसलिए एक आदमी वोट डालकर आता था और उसके यह बताने पर कि शांति है वक्त का उपयोग किया जा सकता है और लोग भी मतदान स्थल तक जाने की हिम्मत जुटा रहे थे। इसी कारण बूथों पर महिलाओं और पुरूषों की भीड़ लगी हुई थी।
लेकिन 13 राज्यों की 88 सीटों तथा 1206 प्रत्याशियों के मुकददर का फैसला करने के लिए संगीनों के साये में और फोर्स की पैनी नजर असामाजिक तत्वों पर लगी हुई थी। असम में पांच बिहार की पांच छत्तीसगढ़ की तीन जम्मू कश्मीर की एक कर्नाटक की 14 मध्य प्रदेश की छह राजस्थान की 13 उत्तर प्रदेश की आठ और बंगाल की तीन लोकसभा सीटों में राहुल गांधी शशि थरूर फिल्म अभिनेत्री हेमामालिनी रामायण के राम अरूण गोविल तथा लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला का भविष्य मतपेटियों में बंद हो गया। लेकिन सुबह सात बजे से मतदान समाप्ति तक सभी राजनीतिक दलों के उम्मीदवार और समर्थक अपनी अपनी जीत के दावे करते नहीं थक रहे थे। छत्तीसगढ़ में हाथी भालू तेंदुएं की समस्या भी चुनाव प्रचार और मतदान के दौरान सुनाई दी। यूपी में मेरठ हापुड़ लोकसभा क्षेत्र में हुए मतदान के दौरान सरधना तहसील के 21 गांवों में दूसरे चरण के लिए मतदान हुआ। 196 रोडवेज बसे निर्वाचन के काम में लगाए जाने से यात्री बेहाल रहे। क्योंकि आवागमन के लिए अधिकारियों द्वारा कोई व्यवस्था की गई नजर नहीं आ रही थी। यहां वोट डलवाने के लिए कार्यकर्ताओं में उत्साह दिखाई दिया लेकिन नगर निगम कैंट बोर्ड और आवास विकास क्षेत्र में सफाई कराने के मामले में सफल नहीं हुए जिसके चलते मतदान केंद्र के आसपास बदबू थी तो कूड़ा नजर आ रहा था। मगर वोटरों को सुरक्षा के लिए एयर एंबुलेंस की लोकेशन लगातार चलती रही और 18 हजार जवान और अफसर चुनाव मैदान में लगे रहे। यूपी की आठ सीटों पर 1.67 करोड़ मतदाताओं को वोट डालना था जिनमें सात लाख से अधिक महिलाएं और 90 लाख से अधिक पुरूष शामिल रहे। इन्हंे 91 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला करना था जिनमें दस महिला उम्मीदवार भी शामिल रहीं।
कुल मिलाकर इस वर्ष मतदान भयमुक्त वातावरण में हो रहा था। तथा कई जगह पिंक बूथ बनाए गए थे और यह आहवान किया जा रहा था कि अपने वोट का प्रयोग कर 73 साल का रिकॉर्ड तोड़ो।
कितने वोट पड़े कौन जीतेगा यह तो चार जून को ही पता चलेगा लेकिन इस बार कुछ मतदाताओं में इतना उत्साह था कि कि वो एक एक हजार किमी दूर से मतदान करने पहुंचे तो कुछ ने गुरूओं के दर्शन को जाने का कार्यक्रम ही बदल दिया। बंबई में रहने वाले फिल्म अभिनेता गिरीश थापर मतदान के लिए दो दिन पहले मेरठ पहुंचे तो जैन नगर निवासी विजय जैन अपने परिवार के साथ उत्तराख्ंाड के श्रीनगर में गुरूजी के दर्शन के लिए जाना था लेकिन मतदान के लिए वह यहां रूके। एक बात विशेष रूप से कही जा सकती है कि पुलिस प्रशासन द्वारा समाजसेवियों और अन्यों के सहयोग से बहुत अच्छी व्यवस्था की गई थी। बीएलओ द्वारा घर घर पर्ची भी पहुंचाई गई और किसी घटना से निपटने के लिए चारों तरफ सुरक्षाकर्मी तैनात दिखाई दिए। कुल मिलाकर मेरठ हापुड़ लोकसभा सीट के चुनाव में डीएम दीपक मीणा द्वारा अधिकारियों के साथ जो व्यवस्था की उन्हें इसके लिए बधाई दी जा सकती है।मेरठ के डीएम और एसएसपी की वोटर कर रहे थे प्रशंसा।

Share.

Leave A Reply