Date: 15/06/2024, Time:

जिसको आगे बढ़ाता हूं, वही आंखें दिखाने लगता है: अखिलेश

0

लखनऊ 01 मार्च। उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव की राजनीति गरमा रही है। इस बीच समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव की चिंता सामने आई है। दरअसल, राज्यसभा चुनाव के दौरान अखिलेश यादव की मुश्किलें बढ़ती हुई दिखी। साथियों ने आंख दिखाई। कई विधायक छिटके। सात ने क्रॉस वोटिंग की। कई परोक्ष रूप से विपक्ष को मदद करते दिखे। वहीं, पुराने सहयोगी साथ छोड़ गए। मजबूत स्थिति के बाद भी सपा तीसरी सीट जीत नहीं पाई। अब राज्यसभा चुनाव 2024 में तीसरे उम्मीदवार आलोक रंजन की हार के बाद अखिलेश यादव का चेहरा बुझा हुआ दिख रहा है। सहयोगी दलों पर भरोसा कर मात खाने पर वे भड़के हुए दिख रहे हैं। अखिलेश यादव यह भी कहते दिखे कि जिसको आगे बढ़ाते हैं, वही आंख दिखाने लगता है। इस बयान के जरिए अखिलेश यादव ने पुराने सहयोगियों रालोद के जयंत चौधरी, विधायक पल्लवी पटेल से लेकर सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर तक को लपेट लिया। साथ ही, उनके निशाने पर क्रॉस वोटिंग करने वाले विधायक रहे। राज्यसभा में हार की निराशा उनके चेहरे पर दिखी। हालांकि, वे अब लोकसभा चुनाव में अपने दम पर आगे बढ़ने की तैयारी करते दिख रहे हैं। इस क्रम में अधिक साथियों को जोड़ने की बात पर भी उनका आक्रोश झलका है।

एक झटके में एक एक करके तीन महत्वपूर्ण नेताओं ने अखिलेश यादव का साथ छोड़ दिया है. सबसे ज्यादा चर्चा तो मनोज पांडे और स्वामी प्रसाद मौर्य की हो रही है, लेकिन साथ तो पल्लवी पटेल ने भी लगभग छोड़ ही दिया है.

ये ठीक है कि पीडीए के नाम पर पल्लवी पटेल ने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी रामजी लाल सुमन को वोट दिया है, लेकिन यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चुनाव के लिए धन्यवाद देकर अपना संदेश भी भेज दिया है.वोटिंग के ठीक पहले जिस तरह से अखिलेश यादव और पल्लवी पटेल की गर्मागर्म बहस हुई थी, तभी साफ हो गया था कि साथ का सफर खत्म हो चुका है. ऐसे में अखिलेश अब जवाबी हमला करते दिख रहे हैं। वे पूर्व सहयोगियों पर निशाना साध रहे हैं।

जयंत चौधरी ने चुनाव के ठीक पहले सपा का साथ छोड़कर एनडीए का दामन थाम लिया। जयंत चौधरी को अखिलेश यादव ने अपने कोटे से राज्यसभा भेजा। एनडीए के साथ जाने के कारण राज्यसभा चुनाव में अखिलेश यादव की रणनीति गड़बड़ा गई। भाजपा ने अपने आठवें कैंडिडेट खड़ा किया। संजय सेठ के रूप में भाजपा ने अपनी रणनीति तैयार की। उत्तर प्रदेश से पार्टी आठ राज्यसभा सांसद को जिताने में कामयाब हो गई।

अब इस पूरे मसले पर अखिलेश यादव का एक बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत के दौरान अपने मन की बात की। उन्होंने कहा जिसे आगे बढ़ाता हूं, वही आंखें दिखाने लगता है। अखिलेश यादव ने क्रॉस वोटिंग करने वालों पर कहा कि हमने कहा था कि धोखा नहीं देना। समाजवादी धोखा नहीं देते हैं। हमलोग धोखा खाए हैं। यह पहचान हो जाती है मित्र की और सबकी। बुरे वक्त में साथ देने वाला ही असली मित्र होता है।

Share.

Leave A Reply