Date: 30/05/2024, Time:

अरुणाचल प्रदेश में सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, 8 सरकारी अधिकारियों समेत 21 गिरफ्तार

0

ईटानगर 16 मई। अरुणाचल प्रदेश में इंटर स्टेट सेक्स रैकेट का पर्दाफाश हुआ है। ईटानगर पुलिस ने जिस्मफिरोशी का धंधा करने वाले 21 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें 8 सरकारी अधिकारी भी शामिल हैं। वहीं पुलिस के एक सीनियर अफसर ने बुधवार को कहा कि इस मामले में सूबे की पुलिस ने 10 से 15 साल उम्र की 5 नाबालिग लड़कियों को मुक्त कराया है।

लड़कियां साल 2020 से 2023 के बीच वेश्यावृत्ति के धंधे में धकेली गई थीं और इनकी उम्र 10 से 15 साल के बीच बताई जा रही है। इन लड़कियों में से 3 लड़कियां एसटीडी नामक बीमारी से संक्रमित हैं। पिछले 10 दिन से असम के धेमाजी, उदलगुरी और चिम्पू में पुलिस की छापेमारी जारी थी। चिम्पू में तेची रीना उर्फ अनिया और जमलो तागुंग के घर छापा मारकर पुलिस ने वेश्यावृत्ति गिरोह का पर्दाफाश किया।

ईटानगर पुलिस अधीक्षक रोहित राजबीर सिंह ने मामले की पुष्टि की। उन्होंने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली थी कि ईटानगर के चिम्पू में 2 बहनें पुष्पांजलि मिलि उर्फ ​​टूटू मिलि और पूर्णिमा मिलि ब्यूटी पार्लर की आड़ में जिस्मफिरोशी का धंधा करती हैं। वे असम के धेमाजी से नाबालिग लड़कियों को लाकर उनसे धंधा कराती हैं।

नौकरी और अच्छी जिंदगी का आश्वासन परिवारों को देकर वे लड़कियों को लाती हैं और धंधा कराती हैं। पुलिस ने गत 4 मई को ब्यूटी पार्लर और दोनों बहनों के घर छापेमारी की। इस दौरान 2 नाबालिग लड़कियों को रेस्क्यू किया गया, जिन्होंने बताया कि आरोपी महिलाएं उन्हें बहाने से असम से लेकर आई हैं और धंधा कराती हैं। दोनों की शिकायत पर ईटानगर महिला पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया।

चल रही जांच के हिस्से के रूप में, पुलिस ने एक दंपति-दुलाल बासुमतारी (52) और दीपाली बासुमतारी (44) की पहचान की। ये ईटानगर में चिड़ियाघर रोड पर सिटी होटल चलाते थे। होटल के प्रबंधक दीपक पराजुली (24) भी इसमें शामिल था। दीपक बासुमतारी उदलगुड़ी के निवासी हैं और पराजुली असम के नारायणपुर के रहने वाले हैं। लड़कियों को दो अन्य महिलाओं के साथ वेश्यावृत्ति के लिए मजबूर किया गया था।

एसपी रोहित के अनुसार, बाल कल्याण समिति को भी मामला बताया गया। वहीं जांच और पूछताछ के बाद पता चला कि आरोपी महिलाओं की गिरफ्त में 2 और नाबालिग लड़कियां हैं। टेची और जामलो नामक 2 दलाल इन दोनों महिलाओं के लिए काम करते हैं। चिम्पू में ही तेची रीना उर्फ ​​​​अनिया और जमलो तागुंग के घर में भी लड़कियां ग्राहकों को सप्लाई की जाती हैं।

वेश्यालय से छुड़ाई गई नाबालिग लड़कियों को आश्रय गृह में भेजा गया है। 11 मई को चिम्पू में चिड़िया घर रोड पर एक लॉज में रेड मारकर नाबालिग लड़की बरामद की गई। पूछताछ में कई सरकारी अधिकारियों के नाम भी सामने आए, जिन्हें पुलिस ने एक्शन लेते हुए उनके घरों से दबोच लिया। पिछले 10 दिन में करीब 21 दलाल और तस्कर गिरफ्तार हो चुके हैं।

Share.

Leave A Reply