Date: 24/07/2024, Time:

बलौदाबाजार में बवाल के बाद धारा 144 लागू, 120 प्रदर्शनकारी हिरासत में

0

बलौदाबाजार 11 जून। छत्तीसगढ़ में सतनामी समाज ने उग्र प्रदर्शन किया है। बलोदा बाजार में समाज के लोगों ने ऐसा बवाल किया की कलेक्टर ऑफिस में आग लगा दी। समाज के लोगों ने दफ्तर में जमकर पथराव किया इस हमले में कई पुलिसकर्मी और स्टाफ घायल हो गए। उग्रवादियों ने 300 से ज्यादा वाहनों को आग के हवाले कर दिया इसमें 50 वाहन चार पहिया वाहन थे। छत्तीसगढ़ के बलौदा बाजार में सन्नाटा पसरा हुआ है. सोमवार को हुए बवाल के बाद शहर में चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मियों की तैनाती है. शहर में धारा 144 लागू है. सीसीटीवी कैमरों से असामाजिक तत्वों पर नजर रखी जा रही है. मुख्यमंत्री विष्णु देव साय ने राज्य के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक से इस पूरी घटना पर रिपोर्ट मांगी है.

छत्‍तीसगढ़ के बलौदाबाजार में कलेक्टर-एसपी दफ्तर में तोड़फोड़ व आगजनी के बाद 120 उपद्रवी हिरासत में लिए गए हैं। आरोपितों की तलाश में पुलिस की छापेमारी जारी है। ड्रोन कैमरों से मिले फुटेज के आधार पर आरोपितों की पहचान की जा रही है।

पुलिस का दावा है कि हिंसा सुनियोजित थी। आठ हजार की भीड़ में शामिल उपद्रवी पेट्रोल डीजल लेकर आए थे। विपक्ष ने पूरे मामले में सरकार की लापरवाही पर ठीकरा फोड़ा है। इधर, चर्चा है कि बलौदाबाजार एसपी-कलेक्टर पर गाज गिर सकती है। राज्य सरकार ने पूरे घटनाक्रम की जांच के आदेश दिए हैं। सतनामी समाज ने घटना के दूसरे दिन भी सौहार्द बनाए रखने की अपील की है।

छत्‍तीसगढ़ के बलौदाबाजार जिले में सतनामी समाज के उग्र प्रदर्शन के सरकार एक्‍शन में आ गई है। जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है। इधर, मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने लोगों से शांति और सौहार्द बनाए रखने की अपील की। उन्‍होंने सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
बलौदा बाजार में सतनामी समाज के बवाल के बाद उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा, मंत्री दयाल दास बघेल, मंत्री टंकराम वर्मा देर रात घटनास्थल का जायजा लेने कलेक्टररेट परिसर पहुंचे। उपमुख्यमंत्री ने घटना स्थल का निरीक्षण किया।

बता दें कि बलौदाबाजार में पिछले 17 मई से चल रहा सतनामी समाज का प्रदर्शन सीबीआइ जांच की मांग को लेकर सोमवार शाम को उग्र हो गया। प्रदर्शनकारियों ने सोमवार की शाम कलेक्टर और एसपी कार्यालयों में आग लगा दी। पथराव किया, 200 से अधिक दोपहिया और करीब 50 चारपहिया वाहनों को फूंक दिया। इससे दोनों कार्यालयों में रखे अनेक महत्वपूर्ण दस्तावेज भी नष्ट हो गए।प्रदर्शनकारियों ने लगभग एक घंटे तक बलौदाबाजार कलेक्टर परिसर व शहर के कई इलाकों में तोड़फोड़ की। भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। पुलिस ने कुछ उपद्रवियों को हिरासत में लिया है।

इस मामले में मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने सीएम हाउस में उच्च स्तरीय बैठक की। मुख्यमंत्री ने आईजी व कमिश्नर को तत्काल घटनास्थल पर पहुंचने के निर्देश दिए हैं। मुख्य सचिव और डीजीपी को तलब कर घटना की प्रारंभिक जानकारी ली एवं घटना की रिपोर्ट भी मंगाई है।
सीएम ने सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं और सभी से शांति व सौहार्द बनाए रखने की अपील की है। बता दें कि इस मामले में पूर्व में ही न्यायिक जांच के लिए गृहमंत्री विजय शर्मा को निर्देशित किया था, जिसकी घोषणा उनके द्वारा की गई थी।

सतनामी समाज क्यों है नाराज?
15 मई को गिरौदपुरी के मानाकोनी स्थित सतनामी समाज के धार्मिक स्थल पर तोड़-फोड़ की गई थी. सतनामी समाज इसकी जांच केंद्रीय एजेंसी से कराने की मांग कर रहा है. सतनामी समाज के लोगों ने नाराजगी जताते हुए सोमवार को दशहरा मैदान में विरोध-प्रदर्शन करने की बात कही थी, साथ ही जिलाधिकारी कार्यालय के घेराव का आह्वान भी किया था.

Share.

Leave A Reply