Date: 30/05/2024, Time:

रेल मंत्री अश्विनी का बड़ा ऐलान, पटरी पर जल्द दौड़ेंगी 50 अमृत भारत एक्सप्रेस

0

नई दिल्ली 20 फरवरी। भारतीय रेलवे से हर रोज बड़ी संख्या में लोग यात्रा करते हैं। ऐसे में यात्रियों को किसी भी तरह की परेशानी ना हो इसके लिए रेलवे लगातार इस पर काम करता है। वंदे भारत एक्सप्रेस की सफलता से उत्साहित होकर चलाई गई अमृत भारत एक्सप्रेस को जनता का खूब प्यार मिला है। इसी कड़ी में भारतीय रेलवे ने अब 50 अमृत भारत ट्रेनों को चलाने का ऐलान किया है। रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने अपने ऑफिसियल सोशल मीडिया अकाउंट “x “पर ट्वीट करके इसके बारे में जानकारी दी।

सोमवार को रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने ऐलान किया कि अमृत भारत ट्रेन को बड़ी सफलता मिली है। इसके चलते 50 अमृत भारत ट्रेनों को मंजूरी दे दी गई है। रेलमंत्री ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर ट्वीट कर इस फैसले की जानकारी दी। अंतरिम बजट से पहले अश्विनी वैष्णव ने कहा था कि हर साल 300 से 400 अमृत भारत एक्सप्रेस चलाई जाएंगी। अब इस बड़ी घोषणा से उस पर मोहर लग गई है।

बता दें कि देश की पहली अमृत भारत एक्सप्रेस ट्रेन का उद्घाटन 30 दिसंबर, 2023 को पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था।
अमृत भारत एक्सप्रेस ट्रेनों में यात्री कम किराए में बेहतर सफर कर सकेंगे। दे भारत की तरह डिजाइन की गई अमृत भारत एक पुल-पुश ट्रेन है। इसमें आगे और पीछे दो इंजन हैं। इस वजह से यह आसानी से तेज रफ्तार हासिल कर लेती है। साथ ही झटके भी कम लगते हैं। इस वजह से जहां पर भी कोई कर्व या ब्रिज जाता है, उस पर काफी टाइम बचेगा। इसकी अधिकतम रफ्तार 130 किमी प्रति घंटा रखी गई है। पुशपुल टेक्नोलॉजी का मतलब ये है कि इस ट्रेन में दो इंजन हैं एक आगे-दूसरा पीछे।

आगे वाला इंजन गाड़ी को पुल करने का काम करेगा तो वहीं दूसरा इंजन उसको पुश करेगा। इसका इंटीरियर भी बिलकुल नया है। ​अमृत भारत नॉन एसी ट्रेन है जबकि वंदे भारत एसी ट्रेन होती है। अमृत भारत में स्लीपर कोच होते हैं जबकि वंदे भारत सिटिंग ट्रेन है। ट्रेन में सामान रखने की पर्याप्त जगह और सीटें आरामदायक हैं।

अमृत भारत ट्रेनों में आधुनिक मॉड्यूलर टॉयलेट भी हैं। अमृत भारत में कई मोबाइल चार्जिंग प्वाइंट और मोबाइल होल्डर भी लगे हैं। CCTV कैमरों से लैस ट्रेन की बोगियां, अत्याधुनिक शौचालय, बोगियों में सेंसर वाले वाटर टैप के साथ गॉर्ड और मेट्रो की तर्ज पर अनाउंसमेंट सिस्टम के इंतजाम इस नई ट्रेन में हैं। टॉयलेट के डिजाइन में भी बहुत सारे बदलाव किए गए हैं। खास तौर पर पानी का कम से कम इस्तेमाल हो इसकी व्यवस्था भी की गई है। वहीं, फिजिकली चैलेंज्ड लोगों के लिए टॉयलेट के स्पेस को बड़ा किया गया है।

वहीं, अगर सुविधा की बात करें तो इसमें पैसेंजर की सुविधा के लिए ऊपर वाली सीट पर क्यूशन कवर लगाया गया है। इस ट्रेन में 22 कोच होंगे जिनमें लगभग 1500 लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। बता दें, इस ट्रेन में 8 जनरल कोच होंगे और 14 स्लीपर कोच इसमें होंगे।

Share.

Leave A Reply