Date: 28/02/2024, Time:

नीतीश कुमार ने राजग संग बनाई नई सरकार, नौवीं बार बने सीएम

0

पटना 29 जनवरी। जनता दल-यूनाइटेड (जद-यू) के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने एकबार फिर से पाला बदलने के बाद रविवार को रिकॉर्ड नौवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. कुमार ने ‘महागठबंधन’ और विपक्षी दलों के ‘इंडिया’ गठबंधन से संबंध विच्छेद करने के बाद भाजपा के साथ मिलकर राज्य में नयी सरकार बनाई, जिससे लगभग डेढ़ साल पहले उन्होंने नाता तोड़ लिया था. बिहार के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने राज भवन में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा की उपस्थिति में कुमार को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी. कुमार ने दिन में यह कहते हुए मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था कि बिहार में सत्तारूढ़ महागठबंधन और विपक्षी ‘इंडिया’ गठबंधन में उनके लिए ‘‘चीजें ठीक नहीं चल रही थीं”.

भाजपा नेता सम्राट चौधरी और विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने भी मंत्री पद की शपथ ली. दोनों उप मुख्यमंत्री बनाए गए हैं. इससे पहले, चौधरी और सिन्हा को भाजपा विधायक दल का क्रमश: नेता और उपनेता चुना गया. उन्होंने इस अवसर के लिए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का आभार व्यक्त किया और ‘‘लालू प्रसाद की पार्टी राजद के जंगलराज से बिहार की रक्षा करने का संकल्प लिया.” जद(यू) नेता विजय कुमार चौधरी, विजेंद्र यादव और श्रवण कुमार के साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की अगुवाई वाले हिंदुस्तान अवाम मोर्चा के संतोष कुमार सुमन और निर्दलीय विधायक सुमित सिंह ने भी मंत्री पद की शपथ ली. कुमार और दोनों उपमुख्यमंत्री को बधाई देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि बिहार में नव गठित राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार राज्य के लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी.

उन्होंने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा कि उन्हें विश्वास है कि बिहार में नयी सरकार पूरे समर्पण भाव से लोगों की सेवा करेगी.बिहार में 243 सदस्यीय विधानसभा में सबसे बड़े दल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) का कोई नेता शपथ ग्रहण समारोह में उपस्थित नहीं था.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट्वीट किया, ”मैं माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शुभकामनाओं के लिए उनका आभार व्यक्त करता हूं और उनके सहयोग के लिए उन्हें तहे दिल से धन्यवाद देता हूं। बिहार में एनडीए गठबंधन के साथ नई सरकार का गठन हो गया है…एनडीए गठबंधन की सरकार के साथ केंद्र और राज्य में विकास कार्यों को गति मिलेगी…”

वहीं बिहार में कल सुबह 11 बजे तक सत्ता में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ रही लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल अब भी प्रभावी है। अगले 14 दिनों तक नई बनी सरकार का राजद से पिंड नहीं छूटेगा। मौजूदा विपक्ष के 114 के मुकाबले सत्ता पक्ष के पास 128 विधायक हैं, इसलिए बहुमत साबित करने की चुनौती नहीं मिली वरना यह 14 दिन और ज्यादा परेशानी भरे होते। इसी तकनीकी परेशानी को देखते हुए रविवार को नई सरकार गठन के तत्काल बाद कैबिनेट की बैठक नहीं कर आज इत्मीनान से इसकी तैयारी की गई है। इस बैठक में 14 दिनों तक राजद से पिंड छुड़ाए रखने की नीति पर मुहर लगेगी।

बताते चले कि राज्य की नई सरकार आज कैबिनेट बैठक कर रही है। इस बैठक में इन 14 दिनों का प्रभाव साफ दिखेगा। सरकार अवध बिहारी चौधरी के कुर्सी पर रहते हुए विधानसभा में बजट सत्र नहीं चाहती है। बिहार विधानमंडल का बजट सत्र पांच फरवरी से शुरू होने वाला था, लेकिन अब कैबिनेट इसे सोमवार 12 फरवरी से रखेगी। कैबिनेट में इस प्रस्ताव पर 12-13 फरवरी से बजट सत्र रखने के निर्णय पर मुहर लगेगी।

Share.

Leave A Reply