Date: 30/05/2024, Time:

चमत्कार: डॉक्टरों ने महिला को किया मृत घोषित, 18 घंटे बाद चलने लगी सांसें

0

बेगूसराय 15 फरवरी। बिहार के बेगूसराय जिले में अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जिससे न सिर्फ चिकित्सा विज्ञान बल्कि आम लोग भी अचंभित हैं. छत्तीसगढ़ के गढ़वा जिले में एक वृद्ध महिला की मौत हुई, लेकिन जैसे ही वह अपनी जन्मभूमि यानी बिहार की सीमा में प्रवेश की तो उसमें जान आनी शुरू हो गई. फिलहाल महिला का इलाज बेगूसराय सदर अस्पताल में चल रहा है. जहां अभी उसे वेंटीलेटर पर रखा गया है. डॉक्टरों ने भी इसे चमत्कार की संज्ञा देते हुए कहा की छत्तीसगढ़ में जिस महिला को मृत घोषित कर दिया था. आखिर बिहार की सीमा में आते ही उसमें जान कैसे आ गई? यह चिकित्सा विज्ञान के लिए भी एक चमत्कार है.

बेगूसराय जिले के नीमा चांदपुरा की रहने वाली रामवती देवी कुछ दिन पहले अपने बेटे मुरारी साव एवं घनश्याम साव के साथ छत्तीसगढ़ घूमने के लिए गई थी. जहां छत्तीसगढ़ राज्य के गढ़वा जिले में मृत महिला रामवती देवी के परिजन रहते थे. 11 फरवरी को अचानक रामवती देवी की तबीयत खराब हुई. तुरंत ही परिजनों ने उन्हें छत्तीसगढ़ के ही एक निजी नर्सिंग होम में इलाज के लिए भर्ती कराया. जहां इलाज के क्रम में महिला की मौत हो गई. मौत के बाद परिजनों ने आपस में विचार विमर्श के बाद महिला रामवती देवी को घर लाने का एवं घर पर ही दाह संस्कार करने का निर्णय लिया.

छत्तीसगढ़ के गढ़वा जिले से दोनों बेटे एक निजी वाहन से रामवती देवी को लेकर बिहार के लिए रवाना हो गए. करीब 18 घंटे गुजर जाने के बाद जैसे ही सभी लोग बिहार की सीमा में प्रवेश किए तो परिजनों के अनुसार औरंगाबाद के समीप परिजनों ने रामवती देवी के शरीर में कुछ हलचल महसूस की. तत्पश्चात उन्हें लेकर परिजन बेगूसराय सदर अस्पताल आए. जहां जांच के क्रम में चिकित्सकों ने भी माना की रामवती देवी में अभी भी जान बाकी है. उन्हें आईसीयू में इलाज के लिए एडमिट किया. डॉक्टरों की देख रेख में महिला का इलाज चल रहा है. एक तरफ परिजन जहां रामवती देवी के पुनर्जीवित होने से खुश हैं. परिजन डॉक्टरों से गुहार लगा रहे हैं की रामवती देवी की बेहतर चिकित्सा व्यवस्था की जाए जिससे कि उनमें जल्द सुधार हो.

सदर अस्पताल के डॉक्टर भी इस मामले को चमत्कार की संज्ञा देते हुए बताते हैं कि रामवती देवी का 12 फरवरी को मौत हो जाना और फिर 13 फरवरी को तकरीबन 18 घंटे के बाद उनके शरीर में जान आना किसी चमत्कार से काम नहीं है. हालांकि, डॉक्टरों ने अनुमान लगाया है कि छत्तीसगढ़ के गढ़वा में रामवती देवी का हार्ट चॉक होने की वजह से चिकित्सकों ने उन्हें वहां मृत घोषित कर दिया, लेकिन रास्ते में गाड़ी में हुए झटके की वजह से उन में जान आना शुरू हुआ. फिलहाल उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है. चिकित्सकों ने भी माना है कि आगे रामवती देवी का जो भी हो लेकिन फिलहाल रामवती देवी में बेहतर सुधार दर्ज किये जा रहे हैं.

Share.

Leave A Reply