Date: 20/02/2024, Time:

अयोध्या जैसा जमीनों का घोटाला कहीं नहीं हुआः अखिलेश

0

लखनऊ 08 फरवरी। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने श्रीराम जन्मभूमि मंदिर में हुए प्राण प्रतिष्ठा समारोह को लेकर तो बुधवार को विधानसभा में कोई टिप्पणी नहीं की, लेकिन यह कहने से नहीं चूके कि जमीनों का जैसा घोटाला अयोध्या में हुआ, वैसा कहीं नहीं हुआ। वहां जमीनों की रजिस्ट्री कराकर कई लोगों ने मिनटों में करोड़ों रुपये कमा लिए।
उन्होंने आरोप लगाया कि अयोध्या में रामपथ व हवाई अड्डा के निर्माण तथा पंचकोसी व 84 कोसी परिक्रमा मार्गों को चौड़ा किए जाने से विस्थापित लोगों को सरकार ने कम मुआवजा दिया। यह भी कहा कि ‘सबका साथ, सबका विकास’ का नारा देने वाली भाजपा सरकार सबको साथ तो लाना चाहती है, लेकिन सबका विकास नहीं चाहती।
उन्होंने कहा कि सरकार कुछ लोगों को ही सब कुछ देना चाहती है। इसी बात को लेकर हमारा सरकार से झगड़ा है। बिना पीडीए (पिछड़ा, दलित, अल्पसंख्यक) के विकास के उत्तर प्रदेश को एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य प्राप्त नहीं हो सकता है।
वह राज्यपाल के अभिभाषण पर सत्तापक्ष की ओर से लाये गए धन्यवाद प्रस्ताव पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि लोकराज लोकलाज से चलता है। राज्यपाल के अभिभाषण की तमाम बातें सच्चाई से दूर हैं।

अखिलेश ने कहा कि यूपी सरकार के लोग गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस तो 2022 तक बना ले रहे थे, 24 आ गया। अभी तक काम नहीं हो पाया। बलिया का लिंक एक्सप्रेसवे कहां से निकल रहा है, इसकी भी जानकार नहीं है। अपने भाषण में अखिलेश ने अग्निवीर भर्ती का मुद्दा भी उठाया। उन्‍होंने कहा कि सबसे ज्यादा धोखा यूपी के साथ हुआ, यहां से सबसे ज्यादा नौजवान जाता था। साल में 70 हजार की भर्ती होती थी, जिसमें दलित, पिछड़े आदिवासी युवाओं की भी र्ती होती थी। सरकार ने जानबूझकर किया है, जिससे पीडीए के लोगों के घर में खुशहाली न आ जाए।

सपा अध्‍यक्ष ने कहा कि अग्निवीर जैसी व्यवस्था लागू होने के बाद अब 70 की बजाए 40 हजार भर्ती होंगे। चार साल के प्रशिक्षण के बाद 35 हजार बाहर निकाल दिए जाएंगे। कुछ दिन पहले अग्निवीर का एक नौजवान शहीद हुआ था, जब शव घर पहुंचा तो सरकार का कोई इंतजाम नहीं था। पहला अग्निवीर शहीद हुआ उसे फौज का वो सम्मान नहीं मिला, जो उसे मिलना चाहिए था।

भाजपा पर किसानों से धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए कहा कि उसने यूरिया की बोरी में चोरी का गुर बिस्कुट बनाने वाली एक कंपनी से सीख ली है। निराश्रित पशुओं की समस्या का उल्लेख करते हुए पूछा कि किसान खेती करे या अपनी फसल को बचाने के लिए आंदोलन? भाजपा सरकार ने प्रदेश में एक भी मंडी नहीं बनाई। फसल बीमा के नाम पर लूट जारी है।

Share.

Leave A Reply