Date: 24/07/2024, Time:

भगवान के नाम पर विजय हासिल करने के लिए चुनाव लड़़ना उचित नहीं

0

18वीं लोकसभा के हुए चुनाव में यह बात स्पष्ट हो गई कि भगवान राम का आशीर्वाद किसी एक प्रत्याशी के लिए नहीं सबके लिए हैं। क्योंकि अगर ऐसा नहीं होता तो मेरठ हापुड़ लोकसभा सीट के प्रत्याशी रामायण के राम अरूण गोविल को जिस तरह से भाजपा और सहयोगी दलों के नेताओं ने चुनाव में भगवान राम के रूप में प्रचलित किया उसके बावजूद वो जिस अंतर से जीते उससे साफ है कि जनता ने भगवान के नाम पर नहीं उन्हें मोदी के नाम पर वोट दी और वो जीत गए क्योंकि भगवान राम ने सभी का ख्याल रखा। अगर ध्यान से सोचें तो अरूण गोविल की बात तो छोड़ो जिस उत्साह और उमंग से धार्मिक भावनाओं के तहत अयोध्या में भगवान राम के मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा की गई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके सहयोगियों ने राम भक्त के रूप में इस मामले में काफी प्रयास और मेहनत की लेकिन मंदिर से हर आदमी की आशाएं जुड़ी है और परिवार के मुखिया की भांति लगता है कि भगवान राम ने देशभर में अपना आशीर्वाद सभी विचारधारा वाले उम्मीदवारों को दिया। जिनका नसीब अच्छा था और क्षेत्र में पकड़ थी वो जीत गए और अयोध्या में भाजपा उम्मीदवार हार गए। भगवान राम हो या कृष्ण शिव हो या हनुमान हम सबके आराध्य हैं और उनके प्रति हम नतमस्तक भी हैं। लेकिन जब बाबरी मस्जिद टूटी तब उत्तर प्रदेश में कल्याण सिंह की सरकार थी उसके बाद विधानसभा चुनाव और इस लोकसभा चुनाव को देखें तो भाजपा और उसकी सरकारों को भगवान के नाम पर चुनाव लड़ने का कोई बड़ा फायदा नहीं मिल पाया। लेकिन फिर भी नरेंद्र मोदी द्वारा परिणाम आने के बाद दिल्ली के भाजपा मुख्यालय में बैठक की शुरूआत जय जगन्नाथ के साथ की गई क्योंकि हार जीत किसी की हुई हो लेकिन भगवान हमारे आराध्य हैं। मैं हमेशा सभी से कहता हूं कि किसी की जीत के लिए अथवा दूसरे कारणों में विजय हासिल करते के लिए भगवान के नाम पर हवन यज्ञ नहीं करना चाहिए क्योंकि अगर परिणाम इच्छानुसार नहीं आता तो इससे हमारी सोच और भावनाएं आहत होती है। भगवान तो सबकी सुनते हैं और यज्ञ पूजा हर कोई करता है। नरेंद्र मोदी फिर से प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं। उनकी सोच व लगन का यह परिणाम है। लेकिन मुझे लगता है कि अब हमें अपने महापुरूषों और ईष्ट देवों के नाम पर जीतने के लिए चुनाव नहीं लड़ना चाहिए।
(प्रस्तुतिः संपादक रवि कुमार बिश्नोई दैनिक केसर खुशबू टाइम्स मेरठ)

Share.

Leave A Reply