Date: 22/06/2024, Time:

किसानों के दिल्ली कूच को देखते हुए ‘बॉर्डर सील, इंटरनेट बैन, धारा 144, बसें बंद

0

नई दिल्ली 13 फरवरी। पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसान संगठन आज दिल्ली कूच करने वाले हैं, क्योंकि किसानों की न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की मांग पूरी नहीं हुई है, जबकि 2021 में किसानों ने इस मांग को पूरा करने का आश्वासन मिलने पर ही आंदोलन खत्म किया था। अब क्योंकि भाजपा की मोदी सरकार का कार्यकाल खत्म हो रहा है। लेकिन किसानों की मांगें पूरी नहीं हुईं, इसलिए किसान फिर से आंदोलन करने को मजबूर हैं और वे दिल्ली बॉर्डर पर डटे हैं, लेकिन दिल्ली पुलिस इस बार उन्हें किसी कीमत पर एंट्री नहीं करने देगी। एक बार फिर दिल्ली के बॉर्डर सील हैं। लोगों के लिए दिल्ली पुलिस ने ट्रैफिक एडवाइजरी भी जारी की है,

दिल्ली पुलिस ने बॉर्डर सील किए हुए हैं। 4 लेयर वाले बैरिकेड लगे हैं। धारा 144 लागू है। उत्तर प्रदेश और हरियाणा से लगते सभी बॉर्डर, पूर्वोत्तर जिलों से सटे इलाकों में 2 से ज्यादा लोगों के जुटने पर रोक लगी है। उत्तर प्रदेश से ट्रैक्टर, ट्रॉली, बस, ट्रक, कमर्शियल और निजी वाहनों या घोड़े आदि की एंट्री बैन है। सिंघु बॉर्डर से रास्ता डायवर्ट है।

गाजीपुर बॉर्डर के रास्ते दिल्ली से उत्तर प्रदेश जाने वाला रास्ता बंद है। लोगों से वैकल्पिक रास्ते अपनाने की अपील की गई है। टिकरी बॉर्डर पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। टकराव हुआ तो हालात कंट्रोल करने के लिए बड़े-बड़े कंटेनर, बैरिकेड, वाटर कैनन भी बॉर्डर पर तैनात किए गए हैं। हरियाणा से दिल्ली आने वाली बसों को लेकर भी सख्ती बरती जा रही है।

किसानों के दिल्ली कूच को देखते हुए हरियाणा और चंडीगढ़ में भी धारा 144 लगी है। हरियाणा सरकार ने 15 जिलों में धारा 144 लागू की है। 7 जिलों में मोबाइल इंटरनेट बैन है। SMS सर्विस भी रोकी गई है। अंबाला, कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद, फतेहाबाद, सिरसा 3 दिन से इंटरनेट-मोबाइल सेवाएं प्रतिबंधित हैं। एहतियात बरतते हुए चंडीगढ़ प्रशासन ने भी धारा 144 लागू की है। हरियाणा, चंडीगढ़ में करीब 60 दिन तक धारा 144 लागू रहेगी।

Share.

Leave A Reply