Date: 18/07/2024, Time:

पति और सास-ससुर काट रहे किडनैपिंग की सजा, 14 साल बाद लौटी पत्नी

0

मोतिहारी 29 मई। बिहार के मोतिहारी जिले में पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है. यहां की पुलिस ने तीन निर्दोष लोगों को महिला के अपहरण के जाल में फंसा कर कोर्ट में आरोप पत्र भी दाखिल कर दिया. कुछ दिनों बाद ही कोर्ट इसी मामले में तीनों निर्दोषों पर सजा सुनाने वाली थी. तभी अचानक एक ऐसी घटना हुई, जिसमें पुलिस के साथ निर्दोष लोगों के परिजन भी हैरान रह गए.

मामला मोतिहारी जिले के पताही प्रखंड के सरैया गोपाल गांव का है. इसी गांव के रामप्रसाद राम के बड़े बेटे विजय राम की शादी शिवहर जिला के शिवचंद्र राम की बेटी बबीता से साल 2001 में हुई थी. शादी के बाद घर में सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था. साल 2010 में बबीता अचानक से गायब हो गईं. ससुराल वालों ने काफी तलाश की लेकिन बबीता का कोई सुराग हाथ नहीं लगा.

ससुरालवालों ने गांव से लेकर अपने रिश्तेदारों के घर तक उसको खोजा, लेकिन फिर भी बबीता का कहीं पता नहीं चला. जब इसकी जानकारी मायकेवालों को हुई तो उसने बबीता के पति विजय राम, ससुर राम प्रसाद राम सहित सात लोगों पर पताही थाना में अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई.
पुलिस में अपहरण का केस दर्ज होते ही उसकी खोजबीन शुरू कर दी गई. पुलिस को जब बबीता कहीं नहीं मिली तो इस केस को सही मानते हुए कोर्ट में आरोप पत्र भी दाखिल कर दिया गया. कोर्ट ने लगातार इस पर निगरानी रखी. इस बीच बबीता के पति विजय राम और सास- ससुर 7 महीने की सजा काटकर अभी बेल पर जेल से बाहर हैं. उनका ट्रायल भी चल रहा है, जिसमें कुछ ही दिनों बाद उन्हें सजा सुनाई जाने वाली थी.

29 अप्रैल 2024 को अचानक 14 साल बाद बबीता अपने ससुराल के गांव पहुंची. जहां पर ग्रामीणों ने उसे पहचान लिया. लोगों ने पताही थाना को सूचना दी. पताही थाने की पुलिस बबीता को लेकर कोर्ट में 164 का बयान दर्ज कराई. इसमें बबीता ने घर छोड़कर नेपाल चले जाने की बात कही. अब कोर्ट बबीता को उसके मायके वालों के हवाले कर आगे की कार्रवाई में जुटी है.

बता दें, रामप्रसाद राम राशन की दुकान चलाते हैं. लड़की के मिल जाने के बाद अब वह और उनका परिवार चैन की सांस ले रहा है क्योंकि उन पर लगे आरोप अब खत्म हो गए हैं. उनकी पत्नी, उनके बेटे अब निर्दोष साबित हुए हैं. वहीं अगर महिला नहीं आती तो पूरा परिवार जेल की सलाखों के पीछे होता. रामप्रसाद राम ने कहा कि भगवान की दया से हमारा पूरा परिवार दोषी होने से बच गया.

Share.

Leave A Reply