Date: 20/02/2024, Time:

निमंत्रण का सम्मान और निर्वहन करना मेरे लिए पुत्र धर्म: विक्रमादित्य

0

शिमला, 23 जनवरी। हिमाचल प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह और कांग्रेस विधायक सुधीर शर्मा सोमवार को अयोध्या में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल हुए। प्रदेश कांग्रेस के इन दोनों नेताओं ने सोशल मीडिया पर समारोह में शामिल होने की फोटो शेयर की। विक्रमादित्य सिंह ने सोशल मीडिया पर लिखा कि अयोध्या राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा का निमंत्रण हिमाचल के छह बार के मुख्यमंत्री दिवंगत वीरभद्र सिंह के देव समाज और हिंदू धर्म के प्रति पूर्ण निष्ठा और अटूट विश्वास को देखते हुए उनके परिवार को दिया गया था। इसका सम्मान और निर्वहन करना हमारे लिए पुत्र धर्म था। राम सबके हैं, राम सब में हैं। अंत में विक्रमादित्य सिंह ने जय श्रीराम लिखा। उधर, धर्मशाला से कांग्रेस विधायक सुधीर शर्मा ने सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखी कि सदियों के संघर्ष और हजारों महापुरुषों के त्याग, तपस्या और बलिदान का परिणाम है कि आज हम श्रीराम जन्मभूमि के मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह के साक्षी बन रहे हैं।

इस अद्वितीय क्षण में सनातन की सत्ता और राम राज्य की पुनर्स्थापना की बधाई के साथ, हम सभी एकमत होकर जय श्रीराम का जयकारा बुलंद कर रहे हैं। यह समय सांस्कृतिक और ऐतिहासिक परिवर्तन की शुरुआत है, जो हमें सशक्त और समृद्धि से भरपूर भविष्य की ओर मोड़ रहा है। राम मंदिर का निर्माण न केवल एक भव्य स्थल की स्थापना है, बल्कि यह हमारे सांस्कृतिक एवं धार्मिक समृद्धि की पुनर्निर्माण की प्रक्रिया का प्रतीक भी है। इस शुभ दिन पर हम सभी को संगठित रहकर अपने राष्ट्रीय आदर्शों के प्रति प्रतिबद्ध रहने का संकल्प करना है, जिससे हम सभी मिलकर एक महान भविष्य की दिशा में काम कर सकें। भगवान रघुनाथ के मुख्य सेवक महेश्वर सिंह भी अयोध्या में भगवान राम के नवनिर्मित मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के साक्षी बने। उन्होंने रघुनाथ की तरफ से भगवान राम को चांदी की चौउंर, चरण पादुका और चौकी 20 जनवरी को भेंट की है। वह चार दिनों से अयोध्या में हैं। महेश्वर सिंह ने कहा कि इस अद्भुत, अविस्मरणीय व अलौकिक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गरिमामय उपस्थिति रही। कहा कि 500 सालों का इंतजार खत्म हुआ है।

Share.

Leave A Reply