Date: 22/04/2024, Time:

खूब खेलों होली लकड़ी कम जलाएं, फूलों से खेलें होली बढ़ चढ़कर मतदान करने और शांति बनाने का ले संकल्प

0

होली के रंग खेलने और होलिका दहन का समय जैसे जैसे नजदीक आता जा रहा है वैसे वैसे इसका उल्लास और उत्साह नागरिकों में बढ़ता ही जा रहा है। बाजार होली की पिचकारी रंग गुलाल और विभिन्न नमकीन व गुजियों से सज गए हैं तो सामाजिक संस्थाओं बाजार एसोसिएशनों, मंदिरों व अन्य संगठनों द्वारा जगह जगह होली मिलन मनाए जा रहे हैं और इनमें फाल्गुन की मस्ती और होली का उत्साह खुलकर नजर आ रहा है। होली आयोजनों में बच्चे और महिलाएं भी पीछे नहीं है। रोज ही कहीं ना कहीं बढ़ चढ़कर होने वाले कार्यक्रमों में नृत्यों और गीतों की बहार खूब खुलकर नजर आ रही है। हर कोई लोकगीतों और फिल्मी गानों पर एक दूसरे को रंगने और गुलाल लगाने के साथ ठुमके लगाने में टक्कर दे रहा है। बच्चों के लिए यह त्योहार अत्यंत अदभूत और खुशियों भरा है। जिसें हर गरीब अमीर मिलकर मना रहे हैं। अगर साधन संपन्न और आर्थिक रूप से मजबूत परिवारों में कई दिन पहले से होली की तैयारियां चल रही है तो त्योहार के दिन रंग के बाद मध्यम परिवार और गरीब भाईयों के यहां भी नए और साफ कपड़े पहनने और गुड़ के पकवान व मठरी खाने का उत्साह अलग ही नजर आ रहा है। फिल्मी दुनिया में भी ब्रज के समान कई दिन पहले तो होली शुरू नहीं होती लेकिन उत्साह सबमें बराबर का होता है। रंग के दिन तो मुंबई में होली का धमाल देखने लायक होता है। रंगों और खुशियों से भरा यह त्यौहार अपनी कला का प्रदर्शन करने का भी एक अच्छा मौका है। कई लोग अपनी आर्टिस्ट कलाकारी और रंगों के खेल कांच के प्लेटों अन्य पर चित्रकारी में इतना सुंदर तरीके से रंग भरते हैं कि वो देखने लायक नजारा होता है। मंदिरों में भगवान के साथ होली खेलने में भक्त भी पीछे नहीं है। चारों तरफ रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे जैसे गीते सुनाई दे रहे तो जो कुछ टेसू के रंग और फूलों से होली खेलने की तैयारी कर रहे है।
इस वर्ष होली का यह अदभुत संयोग तीस साल बाद पड़ रहा है। चंद्रमा कन्या राशि में प्रवेश करेगा। कुल मिलाकर यह त्योहार जो पहले हिंदू ही मनाते थे अब अन्य धर्मों के लोग भी मनाने लगे हैं और दीपावली आदि के समान अपने देश के साथ साथ विदेशों में रहने वाले भारतीय रंगों का त्योहार मिलकर मना रहे हैं। पुलिस और प्रशासन इस मौके पर किसी की खुशी में विघ्न ना पड़े कानून व्यवस्था बनी रहे इसके लिए थानों तहसील मुख्यालयों में सदभावना मिलन आयोजित कर रहे हैं और व्यवस्था में सहयोग का आग्रह इनके द्वारा किया जा रहा है।
दोस्तों आओं हम भी पीछे क्यों रहे होली खूब जलाएं और रंग भी खूब खेले लेकिन कम से कम लकड़ी का उपयोग करें और केमिकल से बचते हुए रंग और गुलाल लगाने का त्योहार पूरी मस्ती से मनाएं तथा पुलिस प्रशासन को व्यवस्था बनाने में सहयोग दें। इन्हीं शब्दों के साथ मैं मेरा परिवार सहयोगी समस्त पाठकों को होली की बधाई देते हुए यह आग्रह करते हैं कि इस बार होने वाले लोकसभा चुनावों में इतने वोट डाले कि पूरे देश में हर क्षेत्र अग्रणीय रहे और लोग यह कहे कि हमनें सबसे ज्यादा मतदान किया क्योंकि नागरिकों में मतदान के प्रति उत्साह था। साथियों हर कोई अपनी बात कह रहा है लेकिन अपने अनुभव और सोच के अनुसार उस व्यक्ति को वोट दे जो आपकी नजरों में खरा उतरता हो।

 

Share.

Leave A Reply