Date: 18/07/2024, Time:

सपा के पूर्व मंत्री नारद राय ने दिया इस्तीफा, भाजपा में होंगे शामिल

0

लखनऊ 28 मई। अपने घर में आयोजित जनसभा में ताल ठोक कर पूर्व सपा नेता और मंत्री नारद राय ने भगवान श्री राम और मां भारती में आस्था प्रकट की. इसके साथ ही उन्होंने भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने का एलान कर दिया. इससे पहले उन्होंने वाराणसी के एक होटल में गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात भी की थी. जिसकी तस्वीर उन्होंने खुद अपने एक सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर की है. इस दौरान उनके साथ सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओम प्रकाश राजभर भी मौजूद थे. नारद राय ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर लिखा है कि दुनिया में भारत का डंका बजाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत के गृह मंत्री राजनीति के चाणक्य अमित शाह के संकल्प की समाज के अंतिम पंक्ति में बसे गरीब को मजबूत करने वाली सोच और राष्ट्रवादी विचारधारा को मजबूत करूंगा, जय जय श्री राम.

नारद राय के भारतीय जनता पार्टी में आने से बलिया में भाजपा को राहत मिली है. यहां भारतीय जनता पार्टी के नीरज शेखर का मुकाबला समाजवादी पार्टी के सनातन पांडेय से है.नारद राय ने अपने X अकाउंट पर पोस्ट किया है, कि मैं मित्रता करता हूं तो ताल ठोक कर. मदद करता हूं तो ताल ठोक कर. विरोध करता हूं तो ताल ठोक कर. उन्होंने भगवान श्री राम और मां भारती के प्रति आस्था प्रकट की. नारद राय सनातन पांडेय को समाजवादी पार्टी का टिकट दिए जाने से नाराज थे. नरेंद्र का बलिया में अच्छा खासा प्रभाव है. आवास पर आयोजित जनसभा में भारी भीड़ उमड़ी. इसके बाद उन्होंने भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन करने का एलान किया. नारद राय मंगलवार को अमित शाह की जनसभा में शामिल होंगे.

नारद राय बलिया से समाजवादी पार्टी का लोकसभा चुनाव के लिए टिकट मांग रहे थे. लेकिन, काफी उम्मीद होने के बावजूद सपा ने सनातन पांडेय को यह टिकट दे दिया. इसके बाद से नारद राय नाराज बताए जा रहे थे. तब सोशल मीडिया पर उन्होंने अपनी स्थिति स्पष्ट की थी.उन्होंने यह तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, था कि ‘दोस्तों आदरणीय अखिलेश ऐसी ताकतों से लड़ रहे हैं, जिन्हें रावण से भी ज्यादा घमंड हो गया है. लेकिन, लोकतांत्रिक रूप से उन्हें सत्ता से खत्म करने का समय है. निवेदन है प्रथम चरण में बहुत तेज उल्टी हवा बही है. अंतिम चरण तक इन्हें खत्म करना होगा है. अखिलेश यादव जिंदाबाद.’

बलिया के कद्दावर भूमिहार नेता और समाजवादी सरकार के पूर्व मंत्री नारद राय ने करीब 2 महीने पहले अखिलेश यादव से सोशल मीडिया पर किया गया अपना वादा तोड़ दिया. नारद राय ने बलिया से टिकट न मिलने के बाद अपनी नाराजगी को छुपाते हुए सोशल मीडिया पर अखिलेश यादव के साथ एक तस्वीर शेयर की थी. जिसमें उन्होंने समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के प्रति अपनी आस्था व्यक्त की थी. उन्होंने कहा, ‘परिवार का घर छोड़ते हो या पार्टी छोड़ते हो तो तकलीफ होती है. और खास तौर ऐसी पार्टी छोड़ने में जहां मैंने अपनी जिंदगी के 40 साल गुजार दिए. छोटे लोहिया (जनेश्वर मिश्र) ने मुझे छात्र राजनीतिक से निकालकर मुख्य धारा की राजनीति से जोड़ा. उनके आशीर्वाद से एमएलए बना, मंत्री बना और जितना हुआ विकास भी किया. इलाहाबाद में जब जनेश्वर मिश्र नहीं रहे तो मैं रो रहा था. तब नेताजी (मुलायम सिंह यादव) ने कहा, नारद मैं जिंदा हूं. जब तक रहूंगा कभी जनेश्वर मिश्र की कमी तुम्हें नहीं खेलने दूंगा. हमारा दुर्भाग्य है कि अब नेताजी भी नहीं रहे.’

Share.

Leave A Reply