Date: 15/06/2024, Time:

चुनाव में गड़बड़ी हुई तो डीएम व कप्तान जिम्मेदारः आयोग

0

लखनऊ 02 मार्च। केंद्रीय चुनाव आयोग ने कहा है कि चुनाव में कोई भी गड़बड़ी हुई तो डीएम और कप्तान ही जिम्मेदार होंगे। आयोग चुनाव के दौरान डीएम व कप्तान के अलावा किसी को नहीं जानता है। आयोग ने जिला निर्वाचन अधिकारियों व कप्तानों को प्रदेश में हर हालत में निष्पक्ष व पारदर्शी चुनाव कराने की हिदायत दी है। कहा है कि कहीं भी पुनर्मतदान या चुनावी हिंसा की नौबत आई तो संबंधित अधिकारी को बख्शा नहीं जाएगा।

प्रदेश में लोकसभा चुनाव की तैयारियों का जायजा लेने लखनऊ पहुंचे मुख्य निर्वाचन आयुक्त (सीईसी) राजीव कुमार और आयुक्त अरुण गोयल ने शुक्रवार को सभी डीएम, मंडलायुक्तों, पुलिस आयुक्त एसएसपी व एसपी के साथ समीक्षा बैठक की। साथ ही आचार संहिता उल्लंघन पर तुरंत मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश दिए। कहा, चुनाव प्रचार पर रोक लगाने जैसी कार्रवाई भी करें।

विधानभवन के तिलक हाल में सुबह 10 से रात 8 बजे तक चली मैराथन बैठक में सीईसी और आयुक्त ने एक-एक डीएम व पुलिस कप्तान से उनके जिले में चुनाव की तैयारी पर बात की। उनसे 2019 और 2022 के मतदान प्रतिशत, आगामी चुनाव में मतदान प्रतिशत बढ़ाने, मतदाता सूची पुनरीक्षण में बड़ी मतदाताओं की संख्या, मतदान केंद्रों पर मूलभूत सुविधाओं, संदिग्ध मतदान केंद्रों और गत चुनाव में आचार संहिता उल्लंघन के मामलों की समीक्षा की।

आयोग ने पुलिस से जिलों में आवश्यक फोर्स, अवैध शराब, मुफ्त सामान व नकद राशि का वितरण रोकने, असामाजिक तत्वों को पाबंद करने, हथियार जमा करने, संवेदनशील मतदान केंद्रों पर सुरक्षा के इंतजाम सहित अन्य तैयारियों की जानकारी ली। प्रदेश से जुड़ी सीमाओं पर स्थित जिलों में खास चौकसी के निर्देश दिए।

राजीव कुमार ने कहा कि आयोग ने लोकसभा चुनाव में हेट स्पीच को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए हैं। प्रत्याशी व नेता चुनाव प्रचार- भाषण में किन शब्दों का उपयोग नहीं कर सकते हैं, यह भी स्पष्ट किया गया है। चुनाव में इन दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई होगी। सीईसी ने पिछले चुनाव फर्रुखाबाद के स्ट्रांग रूम में आग लगने की घटना पर नाराजगी जताई। कहा कि बीते चुनाव में जो गड़बड़ी या अप्रिय घटनाएं हुई हैं, उनकी पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए।

सूत्रों के मुताबिक मार्च के दूसरे सप्ताह में आयोग जम्मू-कश्मीर में लोकसभा चुनाव की तैयारी की समीक्षा करने जाएगा। उसके बाद 13 से 15 मार्च तक चुनाव की तारीखों का एलान हो सकता है।

Share.

Leave A Reply