Date: 28/02/2024, Time:

भक्त व्यापारी सबकी झोली भर रहे हैं राम, बाजारों में सजावट शुरू दीपावली मनाने की है तैयारी

0

अयोध्या में 22 जनवरी को राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर धार्मिक आयोजन शुरू हो गए हैं। और जैसे जैसे प्राण प्रतिष्ठा का समय नजदीक आ रहा है। वैसे वैसे नागरिकों में उत्साह और उमंग भक्ति भावना चरम पर पहुंच रही है। इस बारे में सोशल मीडिया पर खबरों से पता चलता है कि देशभर में पिछड़े और संपन्न इलाकों के साथ ही आदिवासी क्षेत्रों में भी यह उत्सव मनाने के लिए उत्साह दिखाई दे रहा है। हर कोई इस प्राण प्रतिष्ठा के कार्यक्रम को यादगार और भावी पीढ़ी के लिए प्रेरणास्त्रोत बनाने में लगा हुआ है।
इस क्रम में मुख्य मार्ग बाजार और सड़कों गांव देहातों में स्वागत द्वार बनाए गए हैं जिन पर भगवान राम के चित्रों लाइटों और फूलांे की सजावट की जा रही है। जहां तक दिखाई दे रहा है। सफाई के लिए जिम्मेदार सरकारी विभाग इस मौके पर कसौटी पर खरे उतर नहीं पा रहे हैं लेकिन मंत्री से लेकर उद्योगपति मजदूर तक साफ सफाई करने में लगे हैं और मंदिरों में पूजा पाठ शुरू हो गई है।
इस प्राण प्रतिष्ठा के मौके पर भगवान राम भी नागरिकों को निराश नहीं कर रहे हैं क्योंकि झंडे बैनर धार्मिक पुस्तकों फोटो के साथ ही मिठाईयों की बिक्री चरम पर पहुंच गई है। रामनगरी अयोध्या जहां पहले साल भर करते थे इंतजार अब रोज ही मेले लग रहे है। अभी प्राण प्रतिष्ठा का समय बाकी है लेकिन बताते हैं कि 25 से 200 करोड़ तक व्यापार पहुंच गया है। जिसमें फूल धार्मिक पुस्तके मालाएं आदि प्रमुखता से बिक रही है तो देशभर में केसरिया झंडे लहराने शुरू हो गए हैं। जिससे इनसे संबंध व्यापारियों को काफी अच्छा मुनाफा हो रहा है। देखा जाए तो भगवान राम सबकी झोली भरने में लगे हैं। किसी की झोली भक्ति भाव से भरी जा रही है तो कुछ का पल्लू धन दौलत से भर रहा है। किसी को रोजगार मिल रहा है। किसी को उत्साह और उमंग। ऐसा कोई नहीं है जिसे कुछ ना मिला हो क्योंकि सबसे बड़ी बात राम के नाम की जो चर्चा चल रही है और माहौल बना है। जो बीमारी से ग्रस्त रहते हैं उनके कष्ट भी दूर हो रहे हैं। जो ले भगवान का नाम उसके कष्ट हो समाप्त यह बात सोलह आने सत्य साबित हो रही है। 22 जनवरी को घर घर दीपावली और दीयों की रोशनी के लिए भक्त तैयारी कर रहे हैं। कुल मिलाकर यही कहा जा सकता है सबका बेडा पार रहे हैं भगवान राम।

Share.

Leave A Reply