Date: 15/06/2024, Time:

पत्नी के प्रसव के लिए सिपाही को नहीं मिली छुट्टी, आई जच्चा बच्चा की मौत की खबर

0

जालौन 22 अप्रैल। उत्तर प्रदेश के जालौन जिले के रामपुर थाने में तैनात सिपाही ने थानाध्यक्ष पर गंभीर आरोप लगाए हैं। सिपाही ने आरोप लगाया है कि घर से फोन आया कि पत्नी को प्रसव पीड़ा हो रही है। इसके लिए उसने थानाध्यक्ष से छुट्टी मांगी, लेकिन थानाध्यक्ष ने छुट्टी देने से इनकार कर दिया। छुट्टी नहीं मिलने पर सिपाही ने परिजनों को फोन करके पत्नी को अस्पताल ले जाने के लिए कहा। परिजनों पत्नी को सीएचसी ले गए, जहां उसने एक बच्ची को जन्म दिया। दोनों की हालत गंभीर होने के कारण जच्चा-बच्चा को आगरा रेफर कर दिया गया, लेकिन अस्पताल ले जाते समय रास्ते में दोनों की मौत हो गई। विभागीय जांच में थानाध्यक्ष दोषी पाए गए हैं।

सिपाही विकास निर्मल दिवाकर मैनपुरी के कुरावली थाना क्षेत्र के गांव बेलाहार का रहने वाला है। जालौन जिले के रामपुर थाने में उसकी तैनात है। सिपाही विकास ने बताया कि वह कई दिनों से एसएचओ (थानाध्यक्ष) अर्जुन सिंह से पत्नी का प्रसव अच्छी जगह कराने के लिए छुट्टी मांग रहा था, लेकिन एसओ साहब ने छुट्टी देने से साफ मना कर दिया था। उसने बताया कि शुक्रवार को पत्नी को प्रसव पीड़ा हुई। घर से फोन आया, लेकिन एसओ साहब ने छुट्टी देने से मना कर दिया। इसके बाद परिजनों को फोन करके पत्नी को अस्पताल ले जाने के लिए कहा। परिजन सीएचसी पर ले गए, जहां पत्नी ने बच्ची को जन्म दिया। यहां से डॉक्टरों ने आगरा रेफर कर दिया। आगरा ले जाते समय दोनों ने दम तोड़ दिया। समय पर सिपाही की पत्नी को उपचार नहीं मिलने से दोनों की मौत हुई है। सिपाही विकास ने एसओ अर्जुन सिंह की शिकायत एसपी से की है। एएसपी असीम चौधरी ने कहा कि विभागीय जांच में थानाध्यक्ष दोषी पाए गए हैं। उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

हालांकि, एसपी पहले ही एक पत्र जारी कर चुके थे कि थाना प्रभारी अनावश्यक रूप पुलिसकर्मियों को छुट्टी न रोकें। उन्होंने सभी सीओ, एसओ को अवगत कराया है कि किसी भी सिपाही को छुट्टी लेने के अनावश्यक रूप से परेशान न किया जाए।

Share.

Leave A Reply