Date: 22/04/2024, Time:

पावर कारपोरेशन के दोषी अधिकारियों के विरूद्ध भी चैत्रा जी कार्रवाई होनी चाहिए सिर्फ सम्मान देने से काम चलने वाला नहीं है

0

पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड की प्रबंध निदेशक चैत्रा वी द्वारा पश्चिमांचल डिस्कॉम मुख्यालय पर केपीआई एवं आईडीएफ प्रकरणों की समीक्षा हेतु बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में समस्त अधिषासी अभियन्ता (परीक्षण) द्वारा प्रतिभाग किया गया। बैठक में प्रबन्ध निदेशक ने अधिषासी अभियन्ता(परीक्षण) को आईडीएफ प्रकरणों को समाप्त करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा 5 किलोवाट से 9 किलोवाट भार तक के संयोजनों की शतप्रतिशत एमआरआई सुनिश्चित की जाये। बैठक में प्रबन्ध निदेशक ने जनवरी-2024 में ज्ञमल च्मतवितउंदबम प्दकपबंजवते ;ज्ञच्प्ैद्ध के आधार पर परफोर्मेन्स स्कोर कार्ड के अनुसार बेहतर प्रदर्शन करने वाले अभियन्ताओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित भी किया गया।
पारूल कैमिया अधिषासी अभियन्ता विद्युत परीक्षण खण्ड-द्वितीय, सहारनपुर ने उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लि0, लखनऊ स्तर से माह जनवरी, फरवरी-2024 तक आयोजित परीक्षण संबंधी बिन्दुओं पर आब्जेक्टिव टेस्ट में प्रथम स्थान प्राप्त किया जिसके लिए उन्हें प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन की रेटिंग में ज्ञमल च्मतवितउंदबम प्दकपबंजवते;ज्ञच्प्ैद्ध के आधार पर दोषपूर्ण मीटर, बिजलीघरों की टेस्टिंग एवं एमआरआई बिलिंग आदि में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिये प्रेमपाल सिंह अधिशासी अभियन्ता विद्युत नगरीय परीक्षण खण्ड-मुरादाबाद को प्रथम स्थान, राजीव भट्ट अधिशासी अभियन्ता विद्युत नगरीय परीक्षण खण्ड-सहारनपुर को द्वितीय स्थान एवं योगेन्द्र सिंह अधिशासी अभियन्ता विद्युत परीक्षण खण्ड-प्रथम, मुरादाबाद को तृतीय स्थान प्राप्त करने पर प्रबन्ध निदेशक द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।
प्रबंध निदेशक चैत्रा वी जी अच्छा काम करने वालों का सम्मान होना ही चाहिए। आपने जो मनोबल बेहतर प्रदर्शन के लिए सम्मानित कर अभियंताओं का बढ़ाया है। वो अच्छा है लेकिन इसके साथ ही अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करने में असफल रहे विभागीय अधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई भी करनी चाहिए। पिछले दो साल में सरकार के आदेशों के बावजूद कि कोई भी व्यक्ति बिजली विभाग के कारण काल के गाल में ना समा पाए और इसके लिए बिजली के जर्जर खंबों और तारों में सुधार कराया जाए और सरकार इसके लिए सुविधाएं भी दे रही है उसके बावजूद भी जिस क्षेत्र में लापरवाही हुई और वहां लोगों की मौत हुई वहां के इंजीनियर को भी सस्पेंड कर आम आदमी के जान माल की रक्षा और सुरक्षा की जानी चाहिए। सम्मान देने से काम चलने वाला नहीं है।

Share.

Leave A Reply