Date: 24/07/2024, Time:

देहरादून में बिल्डर ने की आत्महत्या, चर्चित कारोबारी अजय गुप्ता गिरफ्तार

0

देहरादून 25 मई। बिल्डर को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में गिरफ्तार सहारनपुर के चर्चित कारोबारी अजय कुमार गुप्ता का उत्तराखंड से लेकर दक्षिण अफ्रीका तक विवादों से नाता रहा है। अजय गुप्ता का उत्तराखंड में खासा रुतबा रहा है।

पूर्व में सरकार की ओर से उसे जेड प्लस सुरक्षा भी दी गई। यही नहीं, अजय गुप्ता ने अपने बेटे की शादी का रिस्पेशन चमोली के पर्यटक स्थल औली में कराया था, जिसे लेकर भी विवाद हुआ था। वर्ष 2018 के दौरान दक्षिण अफ्रीका में विशाल साम्राज्य खड़ा करने वाले अजय गुप्ता व उसके भाइयों के घरों में जोहान्सबर्ग पुलिस ने छापेमारी की थी। उस दौरान पुलिस ने परिवार के एक सदस्य को गिरफ्तार भी किया।

बताते चले कि शहर के नामी बिल्डर सतिन्दर सिंह उर्फ बाबा साहनी ने शुक्रवार को यहां एक इमारत की आठवीं मंजिल से कूद कर कथित रूप से आत्महत्या कर ली. पुलिस ने यह जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि मृतक बाबा साहनी (59) के पुत्र रणवीर सिंह द्वारा दी गयी तहरीर तथा आत्महत्या से पूर्व उनके द्वारा लिखे एक नोट के आधार पर पुलिस ने मामले में आरोपी गुप्ता बंधुओं-अनिल गुप्ता और अजय गुप्ता के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है.

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, दिन में साढ़े 11 बजे राजपुर में पैसिफिक गोल्फ स्टेट इमारत के पास एक व्यक्ति के घायल अवस्था में बेहोश पड़े होने की सूचना मिलते ही पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे. व्यक्ति की पहचान रेस कोर्स क्षेत्र में रहने वाले बिल्डर साहनी के रूप में हुई और पता चला कि उन्होंने इमारत की आठवीं मंजिल से कूद कर आत्महत्या का प्रयास किया है.

साहनी को उनके पुत्र द्वारा तत्काल निजी मैक्स अस्पताल ले जाया गया, जहां उपचार के दौरान उनकी मृत्यु हो गयी. पुलिस को दी तहरीर में रणवीर सिंह ने गुप्ता बंधुओं पर उनके पिता को डराने, धमकाने व ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया है. उन्होंने बताया कि बाबा साहनी ने पूर्व में भी पुलिस को एक प्रार्थनापत्र देकर गुप्ता बंधुओं पर उनकी एक परियोजना को लेकर अनावश्यक रूप से दवाब बनाने की शिकायत की थी. पुलिस ने बताया कि उन आरोपों की नगर पुलिस अधीक्षक द्वारा जांच की जा रही है.

गुप्ता बंधु दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा के करीबी थी, जिसके चलते अफ्रीकी नेशनल कांग्रेस (एएनसी) के दबाव के कारण जुमा को राष्ट्रपति पद छोड़ना पड़ा। बताया जा रहा है कि अजय गुप्ता वर्ष 1993 में कारोबार के लिए दक्षिण अफ्रीका चले गए थे। उनके पिता शिव कुमार सहारनपुर में राशन दुकान चलाते थे। यहां उनका पुश्तैनी मकान भी था। अजय गुप्ता ने पहले दिल्ली के एक होटल में नौकरी की। भाई राजेश गुप्ता व अतुल के साथ मिलकर दक्षिण अफ्रीका में कारोबार शुरू किया।

आरोपित अजय गुप्ता का दून से पुराना कनेक्शन रहा है। वर्ष 2018 में उसे उत्तराखंड शासन की ओर से जेड प्लस सुरक्षा प्रदान की गई थी। जब भी वह दून आता था तो सुरक्षा उसके साथ रहती थी।
आरोपित की कर्जन रोड क्षेत्र में कोठी है। सूत्रों की मानें तो कोठी करीब 25 बीघा जमीन में बनी है। यहां सुरक्षाकर्मियों को भी अंदर जाने की इजाजत नहीं है। गुप्ता बंधुओं के पुराने और कुछ खास लोगों के ऊपर अंदर की व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी है।

रणवीर सिंह ने अपनी तहरीर में यह भी कहा कि गुप्ता बंधुओं द्वारा उनके पिता के विरूद्ध उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक झूठी शिकायत दर्ज कराई गयी थी और वे साहनी को उनकी दोनों कंपनियां उनके नाम करने अन्यथा उन्हें व उनके दामाद को झूठे मामले में फंसाने की धमकी दे रहे थे. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बिल्डर के आत्महत्या से पूर्व लिखे नोट तथा उसके पुत्र की तहरीर के आधार पर थाना राजपुर में गुप्ता बंधुओं के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

Share.

Leave A Reply