Date: 28/05/2024, Time:

यूपी में बीजेपी का सीट शेयरिंग फॉर्मूला, 74 पर खुद लड़ेगी, अपना दल-रालोद और दूसरे सहयोगी दलों को 6 सीटें

0

लखनऊ 01 मार्च। भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव 2024 के लिए अपनी रणनीति को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है. पार्टी स्तर पर तमाम तरह के अभियान और कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने का काम जारी है. वहीं, गठबंधन वाले साथियों के साथ सीट बंटवारे पर भी चर्चा करते हुए उसे अंतिम रूप दिया जा रहा है. दिल्ली में केंद्रीय नेतृत्व के साथ हुई बैठक में भारतीय जनता पार्टी ने सहयोगी दलों के साथ सीट बंटवारे पर लगभग मुहर लगा है. बस इसकी औपचारिक घोषणा होना बाकी है. सूत्रों के अनुसार, यूपी में भाजपा अपने सहयोगी दलों के लिए 6 सीट छोड़ सकती है. बाकी 74 सीटों पर भाजपा प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे.

सूत्रों का दावा है कि भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय लोक दल को दो सीट, अपना दल (एस) को दो सीट, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी व निषाद पार्टी के लिए एक-एक सीट देने पर सहमति जताई है. सूत्रों का यह भी दावा है कि रालोद को अभी एक दो सीट औऱ दी जा सकती हैं. हालांकि, बीजेपी ने सार्वजनिक रूप से अभी तक इन सीटों का ऐलान नहीं किया है लेकिन जानकारी के मुताबिक, गठबंधन की बात करते समय ही उन्हें मिलने वाली सीटों की संख्या बता दी गई थी.

बीजेपी 2014 और 2019 में यूपी की 78 सीटों पर खुद चुनाव लड़ी थी और दो सीटें केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की पार्टी अपना दल (एस) के लिए छोड़ा था. 2014 में बीजेपी ने अपना दल को प्रतापगढ़ और मिर्जापुर लोकसभा सीट दी थी जबकि 2019 में मिर्जापुर और सोनभद्र लोकसभा सीट दी थी. अपना दल (एस) दोनों ही चुनाव में दोनों सीटें जीतने में कामयाब रही थी. मिर्जापुर सीट से अनुप्रिया पटेल लगातार दूसरी बार सांसद हैं. 2024 चुनाव के लिए बीजेपी ने सोनभद्र और मिर्जापुर सीट फिर से अपना दल (एस) को देने का फॉर्मूला बनाया है. हालांकि, केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल 5 सीटों की डिमांड कर रहीं थी.

उत्तर प्रदेश में सपा-कांग्रेस के नेतृत्व वाले इंडिया गठबंधन से नाता तोड़कर आरएलडी (राष्ट्रीय लोक दल) प्रमुख जयंत चौधरी अब बीजेपी के अगुवाई वाले एनडीए का हिस्सा हैं. पश्चिमी यूपी में आरएलडी के सियासी आधार को देखते हुए बीजेपी ने उन्हें अपने साथ लिया है. बीजेपी ने आरएलडी को दो लोकसभा सीटें देने का फॉर्मूला बनाया है. आरएलडी की ओर से बागपत और बिजनौर लोकसभा सीट मांगी जा रही है, लेकिन बीजेपी ने अभी हरी झंडी नहीं दी है. बागपत सीट देने के लिए बीजेपी तैयार है, लेकिन बिजनौर सीट पर पेंच फंसा हुआ है.

सुभासपा प्रमुख ओम प्रकाश राजभर भी एनडीए का हिस्सा हैं, जिनके लिए बीजेपी पूर्वांचल की एक लोकसभा सीट छोड़ रही है. घोसी लोकसभा सीट राजभर के खाते में जा सकती है. हालांकि, राजभर तीन सीटें यूपी में और दो सीटें बिहार में मांग रहे हैं, लेकिन बीजेपी उन्हें एक सीट से ज्यादा नहीं देना चाहती है. योगी सरकार में मंत्री संजय निषाद की पार्टी को बीजेपी एक सीट दे सकती है. 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्हें एक ही सीट दी थी, लेकिन उस समय उनके बेटे प्रवीण निषाद श्रावस्ती लोकसभा सीट से बीजेपी के सिंबल पर चुनाव लड़े थे. माना जा रहा है कि इस बार के चुनाव में बीजेपी उन्हें अपने निषाद पार्टी से चुनाव लड़ने के लिए सीट दे सकती है.

Share.

Leave A Reply