Date: 22/04/2024, Time:

ईडी जांच में इलेक्टोरल बॉन्ड पर बड़ा खुलासा, इन कंपनियों ने दिया है सबसे ज्यादा चुनावी चंदा

0

नई दिल्ली 15 मार्च। भारतीय निर्वाचन आयोग ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अनुपालन करते हुए चुनावी बॉन्ड का विवरण प्रकाशित किया। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने चुनाव आयोग को 12 मार्च को ये आंकड़े सौंपे थे। आंकड़ों के अनुसार, जो अब ईसीआई वेबसाइट पर उपलब्ध है, कोयंबटूर स्थित कंपनी फ्यूचर गेमिंग व होटल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड का नाम चुनावी बॉन्ड के सबसे बड़ा दानदाता के रूप में सामने आया। फ्यूचर गेमिंग की स्थापना 1991 में लॉटरी किंग ऑफ इंडिया सैंटियागो मार्टिन ने की थी।

आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल 2019 से खरीदे गए इलेक्टोरल बॉन्ड के कुल मूल्य का आधा हिस्सा 23 कंपनियों का है। कोयंबटूर स्थित लॉटरी सेवा फर्म फ्यूचर गेमिंग एंड होटल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड शीर्ष खरीदार है। ईसीआई द्वारा प्रकाशित सूची में 12,155.51 करोड़ रुपये के बॉन्ड का विवरण दिया गया है, जिसे लगभग पांच वर्षों में 1,300 से अधिक कंपनियों द्वारा खरीदा गया था।

आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि फ्यूचर गेमिंग और होटल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड ने 1,368 करोड़ रुपये के बॉन्ड खरीदे और इस तरह यह 1,000 करोड़ रुपये से अधिक का दान करने वाली अकेली कंपनी है।

इन कंपनियों ने दिया सबसे ज्यादा चंदा
भारत निर्वाचन आयोग की ओर से वेबसाइट पर अपलोड किए गए आंकड़ों के मुताबिक, सबसे ज्यादा चंदा देने वाली कंपनियों में पहले नंबर पर फ्यूचर गेमिंग एंड होटल सर्विसेज का नाम शामिल है। कंपनी ने 1368 करोड़ रुपये का फंड दिया है। फ्यूचर गेमिंग एंड होटल सर्विसेज अप्रैल 2019 से जनवरी 2024 तक इस लिस्ट में टॉप पर है। दूसरे नंबर पर मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड ने इसने 966 करोड़ रुपये का फंड दिया है। इसके बाद क्विक सप्लाई चेन प्राइवेट लिमिटेड 410 करोड़ रुपये, हल्दिया एनर्जी लिमिटेड 377 करोड़ रुपये, वेदांता लिमिटेड 376 करोड़, एस्सेल माइनिंग एंड इंडस्ट्रीज लिमिटेड 225 करोड़, वेस्टर्न यूपी पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड 220 करोड़, भारती एयरटेल 198 करोड़, केवेंटर फूड पार्क इंफ्रा लिमिटेड 195 करोड़, एमके एंटरप्राइजेज लिमिटेड 192 करोड़ रुपये का चंदा दिया है।

फ्यूचर गेमिंग एंड होटल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड लॉटरी व्यवसाय में है। कंपनी का मुख्यालय कोयंबटूर में साल 1991 में स्थापित हुआ था। मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड डैम और पॉवर प्रोजेक्ट्स में है। क्विक सप्लाई चेन प्राइवेट लिमिटेड लॉजिस्टिक और सप्लाई चेन के बिजनेस में है। हल्दिया एनर्जी लिमिटेड का वेस्ट बंगाल में थर्मल पॉवर प्लांट है। वेदांता लिमिटेड की बात करें तो ये देश की सबसे बड़ी माइनिंग कंपनी है. इस कंपनी की स्थापना 25 जून 1965 को हुई. कंपनी का हेडक्वार्टर महाराष्ट्र के मुंबई में है। एस्सेल माइनिंग एंड इंडस्ट्रीज लिमिटेड (ईएमआईएल), 1950 में स्थापित, भारत की सबसे बड़ी लौह अयस्क खनन कंपनियों में से एक है। वेस्टर्न यूपी पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड बिजली के प्रोडक्टशन और डिस्ट्रीब्यूशन का काम करती है। भारती एयरटेल दूरसंचार कंपनी है। यह ब्रांडबैंड सेवाएं भी देती है। केवेंटर फूड पार्क इंफ्रा लिमिटेड डेयरी प्रोडक्ट्स का बिजनेस करती है। कंपनी की स्थापना 17 जून 2010 को हुई थी। कंपनी का हेडक्वार्टर पश्चिम बंगाल के कोलकाता में है।

Share.

Leave A Reply