Date: 30/05/2024, Time:

अवैध मदरसे से 21 बच्चों को कराया मुक्त

0

लखनऊ 02 मई। आधुनिक शिक्षा देने के नाम संचालित अवैध मदरसे में दीनी शिक्षा देकर उन्हें जन्नत जाने का पाठ पढ़ाया जा रहा था। शिकायत पर बुधवार को यहां से 24 बच्चों को उत्तर प्रदेश बाल अधिकार संरक्षण आयोग की टीम ने रेस्क्यू किया।
21 बच्चे बिहार के दरभंगा के हैं और तीन बच्चे मदरसा संचालक के थे। उन्हें सुपुर्द कर दिया गया और 21 बच्चों को बाल कल्याण परिषद के समक्ष पेश किया। सभी बच्चों के अभिभावकों को सूचित कर दिया गया। बच्चों को उनके हवाले किया जाएगा।

दुबग्गा के अंधे की चौकी के लाल नगर खेड़ा में जमी आतुल कासिम अल इस्लामिया नाम से अवैध मदरसा संचालित था। बिना पंजीकरण के चल रहे मदरसे की स्थित और कार्य शैली पर ग्रामीणों को शक था।
ग्रामीणों ने बाल संरक्षण आयोग को शिकायत की कि मदरसा में छोटे-छोटे बच्चों को रखा गया है और उन्हें दीनी शिक्षा के नाम पर जन्नत की शिक्षा देकर हाफिज बनाया जा रहा है। दो कमरों में संचालित मदरसे में मूलभूत सुविधाएं भी नहीं हैं।

शाम को बाल आयोग की टीम ने पुलिस बल के साथ जैसे ही छापा मारा, मदरसे में अफरा तफरी मच गई। बाल आयोग की टीम ने दो कमरे में मदरसा संचालित पाया । दो कमरों में 24 बच्चे रह रहे थे । 21 बच्चों को मुक्त करा कर बाल संरक्षण आयोग भेजा गया और तीन बच्चे मदरसा संचालक मौलाना इरफान व सैफुल्लाह के थे, जिन्हें मौलाना को सौंप दिया गया।

दोनों संचालक बिहार के दरभंगा के गयारी थाना बिरौल के रहने वाले हैं और वहीं से बच्चों के माता-पिता से समझाकर यहां शिक्षा के नाम पर कुछ और ही पढ़ा रहे थे। इरफान लाल नगर खेड़ा में किराए मकान मालिक आजमगढ़ के दरियापुर गांव निवासी जीशान के साथ मदरसा चला रहे थे।

Share.

Leave A Reply