Date: 18/07/2024, Time:

जूता कारोबारी के बेडरूम में नोटों का अंबार, 100 करोड़ कैश मिलने का अनुमान, तीसरे दिन भी जारी है आई रेड

0

आगरा 20 मई। इनकम टैक्स की इन्वेस्टिगेशन विंग की करीब 42 घंटे से आगरा के तीन शूज कारोबारियों के 14 ठिकानों पर कार्रवाई जारी है. आईटी की रेड में शूज कारोबारियों के यहां पर बेड, अलमारी, बैग, जूतों के डिब्बों में 500-500 रुपये के नोटों की गड्डियां मिली हैं. जिन्हें गिनने में मशीनें हांफ रही हैं. सोना और चांदी के गहने के साथ ही करोड़ों रुपये जमीन में निवेश के दस्तावेज मिले हैं.

इनकम टैक्स के सूत्रों के मुताबिक, अब तक 100 करोड़ रुपये तक की रकम गिनी जा चुकी है. जिसे और बढ़ने की संभावना है. मगर, अभी तक इनकम टैक्स अधिकारी इस कार्रवाई के बारे में कोई आधिकारिक जानकारी शेयर नहीं कर रहे हैं. इनकम टैक्स की इन्वेस्टिगेशन टीम में आगरा, लखनऊ, कानपुर, नोएडा के अधिकारी, कर्मचारी, बैंक कर्मचारी और पुलिसकर्मी शामिल हैं.

बता दें कि, इनकम टैक्स की इन्वेस्टिगेशन टीम ने शनिवार सुबह 11 बजे आगरा में एमजी रोड के बीके शूज, धाकरान के मंशु फुटवियर और हींग की मंडी के हरमिलाप ट्रेडर्स और जयपुर हाउस स्थित आवास समेत 14 ठिकानों पर एक साथ छापा मारा था. जहां पर आईटी टीम ने हर कर्मचारी और परिवार के लोगों के घर से बाहर जाने और बाहर से अंदर आने पर पाबंदी लगा दी. आईटी टीम ने हर जगह से दस्तावेज, इलेक्ट्रॉनिक गजट, लेपटॉप समेत अन्य को कब्जे में लिया. उनसे डाटा ट्रांसर्फर कर लिया है.

आईटी टीम को हरमिलाप ट्रेडर्स के मालिक रामनाथ डंग के जयपुर हाउस स्थित आवास से 500-500 रुपये के नोटों की गड्डियां बैड, गद्दों, अलमारी, जूते के डिब्बे, थैला और दीवारों में भरीं मिली थीं. इस अकूत खजाने की दस से अधिक मशीनों से गिनाई की जा रही है. नोट इतने अधिक हैं कि, मशीनें तक हांफ जाती हैं. जिसके वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. जिसमें बेड पर नोट बिछे हुए दिखाई दे रहे थे. इसके साथ ही रामनाथ डंग के गोविंद नगर स्थित आवास में भी नोटों की गड्डियां मिली हैं. जहां पर भी अलग से टीम रुपये गिनने में लगी हैं. वॉशिंग मशीन और दीवारें भी टीमें खंगाल रही हैं.

आईटी टीम को छापेमारी में शूज कारोबारी रामनाथ डंग के यहां से आय से अधिक संपत्ति के साथ ही बेनामी संपत्तियों के भी दस्तावेज मिले हैं. जिन्हें कब्जे में लेकर आईटी टीम ने छानबीन शुरू कर दी है. इसके साथ ही अन्य शूज कारोबारियों के यहां से आय से अधिक संपत्ति के साथ ही टैक्स में हेराफेरी के दस्तावेज मिले हैं. इसके साथ ही ब्याज का हिसाब किताब भी मिला है.
बता दें कि, इनकम टैक्स की इन्वेस्टिगेशन टीम को बीते कुछ समय से बीके शूज, मंशु फुटवियर के यहां टैक्स चोरी के इनपुट्स मिले थे. जिसकी छानबीन की. इसके बाद ही इन्वेस्टिगेशन टीम ने एक साथ 6 से अधिक ठिकानों पर छापा मारा. इसमें मंशु फुटवियर और बीके शूज के मालिक रिश्तेदार हैं.

इनकम टैक्स की कार्रवाई में शूज कारोबारियों के पास से भारी मात्रा में जमीन में निवेश, सोना की खरीद के दस्तावेज मिले हैं. जिसमें इनर रिंग रोड के पास कारोबारियों ने जमीन में बड़ा निवेश किया है. इनकम टैक्स की टीम ने तीनों जूता कारोबारियों के प्रतिष्ठानों से लैपटॉप, कंप्यूटर और मोबाइल फोन जब्त करके उनसे डेटा जांच के लिए हैं. इसके साथ ही रसीदें और बिल के साथ स्टॉक रजिस्टर की जांच में चौंकाने वाली जानकारियां मिली हैं. एक प्रतिष्ठान के संचालक ने अपने आईफोन का लॉक नहीं खोला है. उसमें लेनदेन के कई राज छिपे हुए हैं.

बता दें कि, इनकम टैक्स को हरमिलाप ट्रेडर्स के मालिक रामनाथ डंग के यहां पर जो कैश बरामद हुआ है, उससे शूज कारोबार में चलने वाला पर्ची का काम चर्चा में आ गया है. रामनाथ डंग की दो दशक पहले मोती कटरा में आटा चक्की थी. इसके साथ ही हींग की मंडी में पर्ची का काम यानी शूज कारोबारियों को ब्याज पर रुपये देने का था. जब पर्ची का काम अच्छा चलने लगा तो उन्होंने आटा चक्की बंद कर दी और शूज कारोबार में हाथ आजमाए. आईटी की कार्रवाई में रामनाथ डंग के आवास के 20 से अधिक शूज कारोबारियों के नाम की पर्ची मिली है. पर्ची का खेल उजागर होने से शूज कारोबारियों में खलबली मची हुई है. हर कोई डरा हुआ है. क्योंकि, पर्ची से ब्याज के साथ ही लेनदेन का काम भी बडे़ स्तर पर होता है.

आयकर विभाग ने नोटों को गिनने के लिए भारतीय स्टेट बैंक के कर्मचारियों के साथ ही नोट गिनने की 10 से अधिक मशीनें मंगाई थीं। टीम रविवार को पूरी रात नोट गिनती रही। सुबह के समय नोट गिनने की मशीन गरम होने पर कुछ देर को नोट गिनने का काम रोका गया। बाद में दोबारा नोट गिनने का काम शुरू हुआ। रात 11 बजे तक नोट गिनने का काम चल रहा था। इसके देर रात तक पूरा होने की उम्मीद जताई जा रही है।
आयकर विभाग के आगरा, लखनऊ, कानपुर और नोएडा के 100 से अधिक अधिकारी व आयकर निरीक्षक कार्रवाई मे शामिल हैं। बैंक स्टाफ की नोट गिनने को शिफ्ट वाइज ड्यूटी लगाई जा रही हैं।

Share.

Leave A Reply