Date: 24/07/2024, Time:

नगरायुक्त जी मानसून से पहले कराईए नालों की सफाई सिर्फ निरीक्षण और दौरों से कुछ होने वाला नहीं है

0

जल्द मानसून आने की संभावना है। जब इसका आगमन होता है तो सड़कों पर गंदगी का क्या आलम होता है यह किसी को बताने की आवश्यकता नहीं है। नगर निगम अधिकारी भी यह जानते हैं उसके बावजूद नगरायुक्त कुछ ठोस करने की बजाय निरीक्षण करने और अभी भी सहयोगियों को चेताने में लगे हैं। लेकिन जहां तक दिखाई दे रहा है। नालों की सफाई सड़क पर कूड़े का उठान अभी तक उस स्तर पर नहीं हो रहा जैसा होना चाहिए। मानसून से हमारे जनप्रतिनिधि भी प्रभावित होते हैं। उसके बावजूद उनकी चुप्पी का क्या कारण है यह सोचने का विषय है। पिछले दो माह से भाजपा के नवनिर्वाचित सांसद अरूण गोविल भी गलियों में घूमे तो उन्हें भी गंदे नाले और सड़कों पर कूड़े के ढेर तो दिखाई दिए होगे लेकिन समस्याओं के समाधान की बाते उनके द्वारा की जा रही है लेकिन बरसात से पहले अधिकारी सफाई कराएं ऐसा कोई बयान नहीं आया है। मेरा मानना है कि अगले दो सप्ताह में नगरायुक्त द्वारा कूड़ा उठवाने के साथ ही नालों की सफाई नहीं कराई गई तो बारिश के बाद नगर जलमग्न और सड़कों पर जो गंदगी का आलम होगा उसकी कल्पना मुक्त भोगी ही कर सकते हैं। पूर्व नगरायुक्त डीके सिंह, गणेश शंकर त्रिपाठी राजेंद्र सिंह आदि ने जिस प्रकार नालों पर खड़े होकर काम कराया था वो ही नीति अपनाते हुए जनहित में नगर आयुक्त सक्रिय हो क्योंकि सारा निगम आपके आवास के आसपास नहीं है। यहां की सफाई के माहौल आप रह रहे हैं तो आपको महसूस नहीं हो रहा है लेकिन आम आदमी जिस गंदे माहौल में आपकी लापरवाही से रहने को मजबूर होगा वो ना तो समयानुकुल है और ना पीएम नरेंद्र मोदी व सीएम योगी की भावना के अनुकुल है। मेरा मानना है कि नालो की सफाई कराई जाए सिर्फ निरीक्षण करने से कुछ होने वाला नहीं है।
(प्रस्तुतिः संपादक रवि कुमार बिश्नोई दैनिक केसर खुशबू टाइम्स मेरठ)

Share.

Leave A Reply