Date: 15/06/2024, Time:

राशन की कालाबाजारी में भाजयुमो जिलाध्यक्ष के पिता समेत सात पर मुकदमा

0

बुलंदशहर, 27 मई। गरीबों के लिए जारी राशन की कालाबाजारी के मामले में भाजयुमो के जिलाध्यक्ष दिवाकर सिंह के पिता रविंद्र सिंह, विभाग के निरीक्षक, राशन माफिया समेत सात आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। मामले में डीएम की ओर से जांच कमेटी गठित की गई थी। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद जिला खाद्य एवं विपणन अधिकारी ने आरोपियों के खिलाफ कोतवाली देहात में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

पांच मई के अंक में जिले में तीन हजार क्विंटल राशन बेचने की खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी। खबर प्रकाशित होने के बाद डीएम सीपी सिंह ने एडीएम प्रशासन डा. प्रशांत कुमार की अध्यक्षता में 11 सदस्यीय जांच टीम का गठन किया था। टीम ने जिले के सभी 16 ब्लॉक में जांच की। खाद्य विपणन विभाग और डीएसओ कार्यालय के फरवरी, मार्च और अप्रैल माह के दस्तावेज खंगाले गए। इसके बाद राशन डीलरों के बयान लिए गए। जांच में सामने आया कि खाद्य विपणन विभाग के अधिकारियों के साथ परिवहन ठेकेदार, राशन माफिया ने प्राइवेट कर्मचारियों के साथ मिलकर तीन हजार क्विंटल राशन का गबन कर बाजार में बेच दिया। राशन डीलरों ने जांच टीम को बताया कि खबर प्रकाशित होने के बाद परिवहन ठेकेदार और राशन माफिया ने मिलकर गबन किए गए राशन को निजी स्तर पर खरीदकर प्राइवेट पैकिंग में राशन डीलरों तक पहुंचाया। कुछ राशन डीलरों को राशन खरीदकर पूरा करने के लिए रकम दी गई। लगातार तीन सप्ताह जांच करने के बाद टीम ने 3408 पेज की रिपोर्ट तैयार की।

रिपोर्ट मिलने के बाद गत रविवार सुबह 10 बजे खाद्य विपणन अधिकारी जेया अहमद करीम ने कोतवाली देहात में परिवहन ठेकेदार व भाजयुमो जिलाध्यक्ष दिवाकर सिंह के पिता रविंद्र सिंह निवासी आदर्श नगर, विपणन निरीक्षक सुधीर कुमार, प्राइवेट कर्मचारी अंकुर, गांव चिट्टा निवासी राशन माफिया वकील खां, लेबर ठेकेदार शिब्बू उर्फ शिवकुमार, ट्रैक्टर चालक पिंकी और पवन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। विपणन निरीक्षक सुधीर कुमार ने 10 मई को जांच टीम को दिए बयान में बताया कि परिवहन ठेकेदार रविंद्र सिंह ने अनुबंध की शर्तों के खिलाफ काम किया।

मनमाने ढंग से प्राइवेट व्यक्ति अंकुर से काम कराया। प्राइवेट कर्मचारी ने ही टीसी (ट्रांसफर सर्टिफिकेट) और डीसी (डिलीवरी सर्टिफिकेट) जारी करते हुए ऑनलाइन फीडिंग भी की। 13 मई को दिए बयान में सुधीर कुमार ने कहा कि अंकुर लेबर ठेकेदार शिवकुमार उर्फ शिब्बू, राशन माफिया वकील खां, पवन और पिंकी के संपर्क में था।

Share.

Leave A Reply