केजरीवाल जी, निःशुल्क सुविधा उपलब्ध कराने के लिए बजट कहां से आएगा, यह भी बताएं

33
loading...

दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल भी अन्य दलों की भांति चुनाव जीतने के बाद नागरिकों को बड़ी बड़ी सौगात देने के लुभावने वादे करने में पीछे नहीं है। बीते दिनों उनके द्वारा पंजाब के मोगा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा गया है कि यदि पंजाब में आप जीती तो हर महिला को एक हजार रूपये प्रतिमाह दिए जाएंगे। यहां श्री केजरीवाल यह बताना भी नहीं चूके कि जिन बुजुग महिलाओं को पेंशन मिल रही है उन महिलाओं को भी यह राशि उपलब्ध कराई जाएगी। उनका कहना था कि 18 साल से ऊपर उम्र वाली हर महिला के खाते में यह रूपये हर माह डलवाए जाएंगे। अपने दो दिवसीय दौरे पर गत दिवस पंजाब पहुंचे श्री अरविंद केजरीवाल द्वारा विधानसभा चुनावों में समर्थन जुटाने को लेकर पार्टी के बड़े नेताओं से विस्तार के साथ चर्चा करने के अतिरिक्त चुनाव अभियान भी चलाया गया। और कहा गया कि पंजाब मंे हर घर को 300 यूनिट बिजली फ्री 24 घंटे उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने सरकारी अस्पतालों में मुफ्त उपचार व दवाईयां मुहैया कराने का भी वायदा किया।
केजरीवाल साहब यह बात सही है कि पूर्व में आपके द्वारा दिल्ली की जनता से जो वायदे किए गए वो ज्यादातर पूरे करने की कोशिश की गई। लेकिन शायद 18 साल से ज्यादा उम्र की महिला को 1000 रूपये प्रतिमाह तो आप वहां भी नहीं दे रहे। आखिर ऐसा क्यों। जहां चुनाव है वहां तो आप यह सुविधाएं देने की घोषणा कर रहें और जहां चुनाव नहीं है वहां भले ही उन दलों की सरकार हो जो ऐसी घोषणाएं कर रहे हैं वो भी वहां की जनता को यह सुविधाएं उपलब्ध नहीं करा रहे आखिर ऐसा क्यों। और सबसे बड़ी बात केजरीवाल साहब यह लगती है कि जो वादा आपके द्वारा मातृशक्ति से किया जा रहा है उसे पूरा करने के लिए बजट कहां से आएगा। उसके लिए धन जुटाने की क्या व्यवस्था की गई है। मेरा मानना है कि आप पार्टी को ही नहीं सभी दलों के नेताओं को चुनाव वाले प्रदेशों में लोक लुभावने मुफ्त सामान देने की घोषणा करते हुए यह भी बताना चाहिए कि इसके लिए पैसा कहां से आएगा क्योंकि अब आम आदमी जो मेहनत करके व्यापार व उद्योग चला रहा है उस पर ज्यादा टैक्स अब लंबे समय तक नहीं लगाए जा सकते और अगर ऐसा प्रयास नहीं होता तो टैक्सों का बोझ डालने वाली सत्ता संभाल रही पार्टियां बिना किसी शोर शराबे के सत्ता से बाहर भी हो सकती है क्योंकि अगर किसी एक व्यापार पर टैक्स लगता है तो उसका असर गरीबी रेखा के पास जीवनयापन कर रहे व्यक्ति पर भी पड़ता है। महंगाई के दौर में हर व्यक्ति बुरी तरह परेशान है और इसके लिए कई कारण तो ऐसे है जो सरकारों द्वारा उत्पन्न कार्यों और बनाई गई नीतियों के कारण आम आदमी को झेलने पड़ रहे हैं।

– रवि कुमार विश्नोई
सम्पादक – दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
अध्यक्ष – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन
आईना, सोशल मीडिया एसोसिएशन (एसएमए)
MD – www.tazzakhabar.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five + fifteen =