राज्यपाल कलराज मिश्र और सांसद साक्षी महाराज बोले: जरूरत पड़ी तो दोबारा बनेगा कृषि कानून

0
29

लखनऊ. राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने कृषि कानूनों को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कानून वापस लेने के पीएम मोदी के फैसले की सराहना करते हुए कहा कि जरूरत पड़ी तो दोबारा कानून बन सकता है। इससे पहले उत्तर प्रदेश के उन्नाव के भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने भी कहा है कि कानून बनते हैं, बिगड़ते और फिर वापस आ जाते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरु पर्व के मौके पर तीनों कृषि कानून वापस लेने की घोषणा की थी। उनके इस ऐलान पर उत्तर प्रदेश के भदोही में प्रतिक्रिया देते हुए राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि सरकार ने कृषि कानूनों को किसानों को समझाने का प्रयास किया। कृषि कानून किसानों के हित में था। कोशिश रही की कृषि कानूनों के सकारात्मक पक्ष किसानों को समझा देंगे, लेकिन किसान आंदोलित थे। अंत में सरकार को यह लगा कि कानून वापस ले लिया जाए। फिर आगे इस संबंध में कानून बनाने की जरूरत पड़ी तो दोबारा बनाया जाएगा। फिलहाल इसे वापस लिया जा रहा है।
इससे पहले भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने कृषि कानूनों को वापस लेने के सवाल पर कहा कि कानून तो बनते-बिगड़ते रहते हैं, वापस आ जाएंगे, दोबारा बन जाएंगे, कोई देर नहीं लगती है। उन्होंने कहा कि भाजपा के लिए राष्ट्र सर्वोपरि है। मोदी ने कानून और राष्ट्र में से राष्ट्र को चुना। किसान आंदोलन को लेकर उन्होंने कहा कि कुछ लोग मंचों से खालिस्तान जिंदाबाद-पाकिस्तान जिंदाबाद नारे लगा रहे थे। सरकार ने उन पर अच्छा प्रहार किया है।

सांसद साक्षी महाराज ने पंजाब के कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को अपना बड़ा भाई बताने पर कहा कि सिद्धू के बयानों से उनकी पार्टी संकट में फंस जाती है, पर मैं संत होने के नाते सलाह देता हूं कि छोटे भाई को बड़े भाई के पास ही रहना चाहिए। वह पाकिस्तान चले जाएं। उन्होंने राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा को लेकर कहा कि 2022 चुनाव सामने हैं युद्ध के मैदान में आएं युद्ध लड़ें।
समाजवादी पार्टी की विजय यात्रा को लेकर बोले कि अखिलेश यादव खिसियानी बिल्ली खंभा नोच रही है। विजय यात्रा निकालने से विजय नहीं होती है। विजय तो रामजी की कृपा से होगी। उनकी कृपा योगी और मोदी के साथ है।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments