ख़तरनाक प्रदूषण बढ़ा रहा है फेफड़ों के इंफेक्शन का ख़तरा, जानें लक्षण

0
39

नई दिल्ली. हमारा श्वसन स्वास्थ्य कई कारणों से प्रभावित हो सकता है। दिवाली के बाद देश के कई शहरों में हवा की गुणवत्ता बेहद ख़राब स्तर पर पहुंच गई है। जिसकी बड़ा असर ज़ाहिर तौर पर हमारे फेफड़ों पर पड़ेगा। दिवाली के बाद, यह देखते हुए कि देश में हवा की गुणवत्ता में काफी गिरावट आई है, हमारे फेफड़ों को नुकसान होना तय है। डॉक्टर और मेडिकल एक्सपर्ट्स भी सीने में दर्द और सांस लेने की समस्या से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ने से चिंतित हैं।
इसके अलावा फेफड़ों का इंफेक्शन लोगों को गंभीर रूप से बीमार कर सकता है। यह वायरस, बैक्टीरिया और कई बार फंगस की वजह से हो सकता है। निमोनिया सबसे आम तरह का लंग इंफेक्शन है, जो हल्का होने से लेकर गंभीर रूप ले सकता है। इसलिए इसके संकेत और लक्षणों के बारे में जानकारी रखनी चाहिए, ताकि आप सही समय पर इलाज शुरू कर सकें।

फेफड़ों के इंफेक्शन के लक्षण

गाढ़े बलग़म के साथ लगातार खांसी
फेफड़ों के संक्रमण से पीड़ित व्यक्ति को लगातार खांसी हो सकती है, जिससे उसे वायुमार्ग और फेफड़ों की सूजन से होने वाले बलग़म से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। ब्रोंकाइटिस या निमोनिया जैसी श्वसन संबंधी बीमारियां खांसी को ट्रिगर कर सकती हैं, जो क्लीयर, पीले-भूरे, हरे, सफेद रंग से लेकर गाढ़े बलग़म के साथ हो सकती हैं। कई बार बलग़म में ख़ून भी आ जाता है, और इस तरह की खांसी लंबी चलती है।

सांस लेने में तकलीफ और सीने में दर्द
सांस की तकलीफ का मतलब है जब आपको सांस लेने में मुश्किल हो। फेफड़ों के संक्रमण के अलावा, यह दिल के दौरे सहित कई अन्य ख़तरनाक बीमारियों का संकेत हो सकता है, इसलिए इसका समय पर निदान करना और भी महत्वपूर्ण है। फेफड़ों के संक्रमण के कारण सीने में तेज़ दर्द के साथ सांस लेने में तकलीफ हो सकती है।

आपको घरघराहट का अनुभव हो सकता है। जब आपको फेफड़ों में संक्रमण होता है, तो सूजन की वजह से आपका वायुमार्ग संकरा हो सकता है। इसलिए जब आप सांस छोड़ते हैं, तो इससे घरघराहट हो सकती है, एक तेज़ सीटी की आवाज़ की तरह।
फेफड़ों के संक्रमण में बुखार, ठंड लगना और थकान हो सकती है

संक्रमण का कोई भी रूप शरीर में गंभीर सूजन पैदा कर सकता है, जिससे गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। फेफड़ों का संक्रमण भी कुछ ऐसा ही है। यह बुख़ार, ठंड लगना और थकान के साथ हो सकता है, जिससे यह पता चलता है कि आपका शरीर संक्रमण से लड़ने की कोशिश कर रहा है।

इलाज: बैक्टीरियल लंग इंफेक्शन के इलाज के लिए डॉक्टर एंटीबायोटिक्स दे सकते हैं। साथ ही, फंगस की वजह से हुए लंग इंफेक्शन का इलाज एंटीफंगल दवाओं से किया जाता है। हालांकि, लेकिन अगर इंफेक्शन वायरस की वजह से हुआ है, तो इन दवाओं से ठीक नहीं होगा। आपका शरीर खुद-ब-खुद इस इंफेक्शन से लड़ेगा।

फेफड़ों के संक्रमण के लिए घरेलू उपाय
ज़्यादातर फेफड़ो के संक्रमण के लिए दवाइयां उपलब्ध हैं, लेकिन इसके अलावा कुछ घरेलू उपाय भी हैं जिनकी मदद से रिकवरी को तेज़ किया जा सकता है या फिर लक्षणों में कुछ आराम पहुंच सकता है।

– ख़ूब सारे तरल पदार्थ का सेवन करें
– ज़्यादा से ज़्यादा आराम करें
– एक स्वस्थ डाइट फॉलो करें
– ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें या फिर भांप लें।
– गुनगुना पानी पिएं।
– स्मोकिंग से बचें या फिर ऐसे लोगों के साथ न खड़े हों जब वह स्मोक कर रहे हों।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments