ताजमहल पर कांवड़ चढ़ाने का प्रयास, हिन्दूवादी नेता गिरफ्तार

65
loading...

आगरा. श्रावण मास के दूसरे सोमवार को अखिल भारत हिंदू महासभा के जिला प्रभारी जितेंद्र कुशवाह ताजमहल पर कांवड़ चढ़ाने जा रहे थे। एलआईयू की सूचना पर पुलिस ने उन्हें आंबेडकर पुल पर हिरासत में लिया। उन्हें थाने ले गई। पहले गंगाजल थाने में स्थित शिव मंदिर में चढ़वाया। उसके बाद हिंदूवादी नेता को हिदायत देकर छोड़ दिया। शाम को पुलिस ने इस मामले में मुकदमा लिखा। आरोपित को फिर पकड़ लिया गया।

अखिल भारतीय हिंदू महासभा की प्रांतीय अध्यक्ष मीना दिवाकर और जिला प्रभारी जितेंद्र कुशवाह सोरों एटा से रविवार को आगरा के लिए कांवड लेकर चले थे। सुबह सात बजे वे आगरा पहुंचे। जितेंद्र कुशवाह ताजमहल पर कांवड़ चढ़ाने जा रहे थे। उनका कहना था कि ताजमहल नहीं यह तेजोमहालय है। एलआईयू ने पहले से ही पुलिस को यह सूचना दे दी थी। यह भी बताया था कि पूर्व में इस तरह के प्रयास किए जाते रहे हैं।

पुलिस पहले से अलर्ट थी। जितेंद्र कुशवाह को आंबेडकर पुल पर रोक लिया गया। पुलिस उन्हें थाने लेकर आई। जानकारी होने पर अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय जाट, सचिन प्रताप व रौनक ठाकुर थाने पहुंच गए। मीना दिवाकर अपनी कांवड़ लेकर वहां आ गईं। पदाधिकारी और कार्यकर्ता पुलिस से उलझ गए। एक घंटे तक विवाद चला। पुलिस ने अंतत: हिंदूवादियों को समझाया। साफ शब्दों में कहा कि ताजमहल की तरफ किसी को जाने नहीं दिया जाएगा। पुलिस के प्रयास से जितेंद्र कुशवाह ने थाने में स्थित शिव मंदिर पर गंगाजल चढ़ा दिया। मामला शांत हो गया। पुलिस ने भी जितेंद्र कुशवाह को हिदायत देकर छोड़ दिया।

सोशल मीडिया पर यह मामला चला तो पुलिस से सवाल जवाब हुए। पूछा गया कि जब धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का प्रयास किया गया तो कार्रवाई क्या हुई। शाम को अधिकारियों के निर्देश पर थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया। दरोगा घनश्याम विंद मुकदमे में वादी बने। मुकदमे में जितेंद्र कुशवाह और मनीष पंडित को नामजद किया गया। पुलिस ने देर शाम जितेंद्र कुशवाह को दोबारा हिरासत में ले लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fifteen − 6 =