नये कमिश्नर की कार्यप्रणाली से हर नागरिक में पैदा हो रही है विश्वास की भावना

213
loading...

अधिकारी सभी सरकार और शासन की नीति तथा प्रदेश के मुखिया सीएम की भावनाओं को ध्यान में रखकर काम करने का दावा करते है और किया भी जाता है। लेकिन उनकी कार्यप्रणाली का इसमें बड़ा योगदान होता है कुछ अफसर अपने कार्यों और व्यवहार से अपने क्षेत्र के नागरिकों का दिल जीत लेते है तो कुछ काम तो पूरा करते है लेकिन उनके व्यवहार व तरीकों से आम आदमी में मायूसी और निराशा की भावना पैदा होती है। और ऐसे माहौल में सरकार की भी छवि जनता में धूमिल होने लगती है। लेकिन सर्वगुण संपन कहलाने वाले अफसर काम सब वो ही करते है मगर चारों तरफ प्रसन्नता और खुशहाली का माहौल नजर आता है आखिर ऐसा क्यों होता है। यह विषय सोचने और चर्चा करने का जनहित में जरूरी समझा जाता है।
पिछले कुछ दशक में टी जार्ज जोजफ, आरडी सोनकर, शंभूनाथ, विजय शर्मा, संजय अग्रवाल, मुकेश मेश्राम, दीपक सिंघल, भूवनेश कुमार, मृत्युंजय कुमार नारायण, राजीव कुमार, एसएस सेठ, अनूप पांडे़, प्रभात कुमार, अनिल स्वरूप, एलतार सिंह, अमित मोहन प्रसाद, अवनीश अवस्थी, रमा रमण आदि कुछ ऐसे आईपीएस अफसर हुए जिनसे मिलकर आने वाले का काम हुआ या नहीं मगर वो उनके यहां से हताशा और मायूसी लेकर नहीं लौटा क्योंकि इनकी कार्यप्रणाली से एक तो आम आदमी में पूर्ण रूप से विश्वास की भावना पैदा हुई क्योंकि काम अगर होने लायक है तो वो तुरंत हो गया। दूसरे इनका व्यवहार जनता के प्रति ऐसा रहा जिसने कभी यह महसूस नहीं होने दिया कि वो कोई अप्रोच नहीं लेकर आया या उसके साथ कोई बड़ा आदमी नहीं है तो उसका काम कैसे होगा।
मेरठ मंडल के नये कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह द्वारा बीती 5 मार्च को अपने नये पद का कार्यभार ग्रहण किया गया। अभी उन्हें चार्ज संभाले एक माह पूरा नहीं हुआ है लेकिन चारों तरफ नागरिकों में एक चर्चा विशेष रूप से सुनाई दे रही है जिस जागरूक व्यक्ति से बात करों वो एक ही शब्द कहता सुनाई देता है यार अफसर तो अच्छा है काम भी खूब कर रहा है। इस संदर्भ में जब एक दिन नवनियुक्त कमिश्नर साहब से चर्चा हुई तो उनका कहना था कि पहले जरा सब कुछ समझ लूं कुछ काम कर लूं तब सम्मान समारोह अच्छा लगता है। जिससे इस बात का प्रतीक शासन की नीति के तहत आम आदमी को हर संभव सुविधाऐं और न्याय दिलाने के साथ ही उसकी समस्याओं के समाधान तथा अपने समक्ष पुलिस अधिकारियों के साथ योजनाएं बनाकर भव्य वातावरण की स्थापना की अपने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर ऐसी योजना बना रहे है जिससे किसी को मायूस न होना पड़े।
अपना कार्य संभालते ही पहले दिन कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह जी ने जिस हिसाब से जनता से मिलने और उनकी बात सुनने और कार्यों की शुरूआत की उसने ही एक संदेश हर क्षेत्र में देना शुरू किया कि वर्तमान कमिश्नर एक तो हमेशा कार्य दिवस और समय में जनता की बात सुनने के लिए उपलब्ध होंगे दूसरे जनता के नीतिगत कार्यों में किसी को देरी नहीं करने देेंगे। उनके कार्यकाल में भ्रष्टाचार रिश्वतखोरी और लापरवाही अगर उन्हें पता चल गया तो चल नहीं पाएंगी और जो कोशिश करेंगा वो बच नहीं पाएगा।
श्री सिंह द्वारा जिस हिसाब से सरकारी दफ्तरों में छापेमारी और संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठकें शुरू की गई है उससे यह महसूस होने लगा है कि जो अफसर किसी भी विभाग के हो अगर उनके कार्य क्षेत्र में रहना चाहते है तो उन्हें मुख्यमंत्री जी की भावनाओं के तहत आम आदमी का काम भी करना होगा दफ्तर में भी बैठना होगा और कोई भी मामला लटकाने की व्यवस्था नहीं चल पाएगी।
एक कहावत है कि गंगा जी को आना था भगीरथ को श्रेय मिलना था शायद उसी तरह मेरठ दिल्ली हाईवे उन्हीं के कार्यकाल में शुरू होने जा रहा है इस कार्य को जल्दी करने के जो प्रयास किये गये वो सराहनीय कहे जा सकते है। अब मेरठ से विभिन्न जगहों के लिए हवाई यात्राऐं भी जल्दी शुरू होने की उम्मीद बनी है और सबसे अच्छी बात यही कही जा सकती है कि भ्रष्ट किमारवाज और झूठ बोलने वाले चाहे वो किसी भी क्षेत्र में सक्रिय क्यों न हो उन्हें संरक्षण सुरेन्द्र सिंह जी की मौजूदगी में मिलने वाला नहीं है।
बहुत दिनों बाद कोरोना के बावजूद होली के पावन पर्व पर कमिश्नर निवास के दरवाजे जनता के लिए खुले रहे। लोग मिलने भी आये बधाई और शुभकामनाऐं तथा गुलाल लगाकर सुझाव भी दिये जिन पर शीघ्र काम भी अगर वो सही है तो शुरू हो सकता है।
हिन्दी नव वर्ष 1 अप्रैल 2021 से नये वित्तीय वर्ष की व्यवस्थाओं से जुड़ने जा रहे है मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के राजनीतिक क्षेत्र बनारस के डीएम रहने के साथ ही यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के सचिव रह चुके और पूर्ण सफलता के साथ वहां कार्य करने के साथ ही जनता द्वारा की गई प्रशंसाओं से जो उनका विश्वास और मनोबल बढ़ाया उसने देश और प्रदेश के मुखिया की निगाह में भी सुरेन्द्र सिंह जी की एक अच्छी छवि स्थापित की जिसे देखकर यह कहा जा सकता है कि वो जन समस्याओं के समाधान के लिए शासन से संबंध कार्य भी करा सकते है। नया साल हिन्दी नववर्ष उनके लिए शुभ और उनकी जनहित की नीति और कार्यों के चलते जनता के लिए लाभकारी हो इसी विश्वास के साथ हम हर क्षेत्र में सफल और सर्वगुण संपन्न वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी श्री सुरेन्द्र सिंह जी को बधाई और शुभकामनाएंें देते हुए यह पूर्ण विश्वास के साथ कह सकते है कि वो और उनका मेरठ कार्यकाल माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी और उच्च अधिकारियों तथा जनता की कसौटी पर खरा उतरेगा और जल्दी ही अगर उन्हें सही सूचनाऐं पीड़ितों के द्वारा दी जाती रही तो इस मंडल के नागरिकों को
1 भूमाफियाओं अवैध निर्माणकर्ताओं और रिश्वतखोर अफसरों और सरकार की नीतियों के तहत काम न करने वालों से तो छुटकारा मिलेगा ही सफाई और आये दिन लगने वाले जाम की कठिनाई जो झेलनी पड़ रही है वो भी दूर होगी सड़कों पर चारों तरफ नजर आने वाले खत्ते आदि पर मौजूद कूड़ा उठने के काम में भी तेजी आएगी। और लोग लाॅकडाउन के नियमों का पालन करते हुए कोरोना की महामारी से संक्रमित नागरिकों की संख्या में भी कमी आएगी और चारों तरफ खुशहाली का माहौल तो पैदा होगा ही
वर्तमान कमिश्नर की जो सबसे अच्छी बात पिछले एक माह में उनसे संबंध खबरे पढ़कर और जनता की बात सुनकर या एक आध बार उनसे हुई मुलाकात से स्पष्ट हुई कि सुरेन्द्र सिंह ऐसे खुले मन के अधिकारी है जो बिना मतलब ना तो किसी को संदेह की दृष्टि से देखते है और ना ही सामने वाले को गलत समझते है। और यह आदत बहुत ही कम उच्च पदों पर बैठे अफसरों में पाई जाती है।

 

– रवि कुमार विश्नोई
सम्पादक – दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
अध्यक्ष – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन
आईना, सोशल मीडिया एसोसिएशन (एसएमए)
MD – www.tazzakhabar.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × four =