26 जिलों में खुलेंगे मॉडल राजकीय महाविद्यालय, संस्कृत विद्यालयों का संचालन गुरुकुल पद्धति के अंतर्गत होगा

19
loading...

लखनऊ। राज्य सरकार ने उच्च शिक्षा को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनाने का संकल्प लिया है। इसके मद्देनजर प्रदेश के जिन मंडलों में राज्य विश्वविद्यालय नहीं है, वहां भी एक राज्य विश्वविद्यालय की स्थापना की जाएगी। इसी तरह न्यून सकल नामांकन दर वाले 26 जिलों में मॉडल राजकीय महाविद्यालय खोले जाएंगे। राजकीय महाविद्यालयों के भवन निर्माण के लिए भी 200 करोड़ रुपये के बजट का प्रावधान किया है।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत उच्च शिक्षा संस्थानों को बड़े बहुविषयक विश्वविद्यालयों, कॉलेजों, हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूट के क्लस्टर, नॉलेज हब स्थानांतरित कर उच्च शिक्षा के विखंडन को खत्म किया जाएगा। प्रदेश सरकार इसके लिए संसाधन, सामग्री व मानव कार्यकुशलता में बढ़ोतरी कर मदद करेगी। सरकार ने उच्च शिक्षा को अंतरराष्ट्रीय स्तर की बनाने का संकल्प लिया है। उधर सहारनपुर, आजमगढ़ और अलीगढ़ में स्थापित किए जा रहे राज्य विश्वविद्यालयों के लिए सरकार ने भूमि उपलब्ध कराई है। सिद्धार्थनगर में सिद्धार्थ विवि, प्रयागराज में प्रो. राजेंद्र सिंह विवि और लखनऊ में ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती भाषा विवि के भवन निर्माण का काम तेजी से चल रहा है। प्रयागराज में विधि विश्वविद्यालय की स्थापना भी जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen + seven =