CWC की मीटिंग में हुआ फैसला, मई में होगा कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव

20
loading...

नई दिल्ली 22 जनवरी। कांग्रेस में अध्यक्ष पद को लेकर मचे घमासान के बीच कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक चल रही है. पार्टी सूत्रों के मुताबिक, मई में पार्टी संगठन के चुनाव हो सकते हैं. अध्यक्ष को लेकर विरोध के सुर उठने के बाद CWC की पिछली बैठक में तय हुआ था कि पार्टी संगठन के चुनाव करवाए जाएं. मई 2019 में राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद सोनिया गांधी अंतरिम अध्यक्ष बनी थीं. कांग्रेस नेताओं का एक गुट मांग कर रहा है कि फुल टाइम प्रेसिडेंट चुना जाए, जो एक्टिव भी रहे.

सोनिया गांधी ने इस दौरान केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि सरकारर ने संवेदनहीनता और अहंकार की सभी हदें पार कर दी हैं. किसान आंदोलन को लेकर सोनिया गांधी ने कहा कि इन कानूनों को सरकार ने जल्दबाजी में पास कर दिया.

इसे भी पढ़िए :  'Dilbar' सॉन्ग को यूट्यूब पर मिले 100 करोड़ से ज्यादा व्यूज, नोरा फतेही ने मनाया जश्न

माना जा रहा है कि इस बैठक में अध्यक्ष के चुनाव को हरी झंडी दी जा सकती है और चुनाव तिथि का ऐलान भी हो सकता है. गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई थी.

बिहार विधानसभा चुनाव और कुछ राज्यों के उप चुनावों में कांग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल जैसे कुछ वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी के सक्रिय अध्यक्ष की नियुक्ति की मांग फिर उठाई. वैसे, कांग्रेस नेताओं का एक बड़ा धड़ा लंबे समय से इस बात की पैरवी कर रहा है कि राहुल गांधी को फिर से कांग्रेस की कमान संभालनी चाहिए. कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने हाल ही में कहा था कि कांग्रेस के 99.99 प्रतिशत लोग चाहते हैं कि राहुल गांधी फिर से उनका नेतृत्व करें.

इसे भी पढ़िए :  TV ऐक्‍ट्रेस को शादी का झांसा देकर किया कई बार रेप, मुंबई में केस दर्ज

अगस्त 2019 में सोनिया ने संभाला था पदराहुल गांधी द्वारा मई 2019 में पार्टी की लोकसभा की हार के बाद इस्तीफा देने के चलते अगस्त 2019 में सोनिया गांधी ने अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला. वहीं कांग्रेस नेताओं के एक वर्ग से पूर्णकालिक और सक्रिय पार्टी अध्यक्ष होने की मांग की गई है.

इसे भी पढ़िए :  योग गुरु रामदेव ने दिया धोखा: अखिलेश यादव

बता दें सीडब्ल्यूसी ने अपनी पिछली बैठक में संगठनात्मक चुनाव कराने का फैसला किया था, जिसमें पिछले साल अगस्त में पार्टी के 23 नेताओं के एक समूह ने सोनिया को पत्र लिखा था जिसमें गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, भूपिंदर हुड्डा, पृथ्वीराज चव्हाण, कपिल सिब्बल, मनीष तिवारी और मुकुल वासनिक शामिल थे. सोनिया गांधी ने पिछले महीने इनमें से कुछ ‘चिट्ठी लिखने वालों’ से मुलाकात की थी और उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों पर चर्चा की थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen − five =