यूपी: 24 घंटे में कोरोना संक्रमित 2588 नये मामले, अब तक 4,95,415 मरीज हुए ठीक

11
loading...

लखनऊ 22 नबंवर। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना श्री नवनीत सहगल ने लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मा0 मुख्यमंत्री जी के निर्देश पर अधिक से अधिक कोविड-19 टेस्ट कराने पर जोर दिया जा रहा है। मा0 मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए हैं कि अधिक से अधिक आर0टी0पी0सी0आर0, एन्टीजन तथा ट्रूनेट टेस्ट के द्वारा संक्रमण को पहचान कर उनका इलाज कराया जाय। उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा इस समय आवश्यकता है कि मास्क पहनें, हाथ धोते रहें, सोशल डिस्टेंसिंग रखें तथा भीड़भाड़ से दूर रहें। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कोरोना संक्रमण बढ़ने से प्रदेश के सीमावर्ती जनपदों में कोरोना संक्रमण के केस की बढ़ोत्तरी हुयी है। उन्होंने कहा कि दिल्ली के सीमावर्ती जिलों में विशेष सतर्कता बरती जा रही है तथा अस्पतालोें में सभी समुचित सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही हैं तथा टेस्टिंग क्षमता बढ़ा दी गई है। उन्होंने कहा कि इस बात का ध्यान रखा जा रहा है कि दिल्ली की वजह से आस-पास के जनपदों में कोरोना का संक्रमण न फैले। दिल्ली से आने-जाने वाले लोगों के रेण्डम चेकिंग भी करायी जा रही है ताकि संक्रमण वाले व्यक्तियों की पहचान की जा सके तथा उनका ईलाज अस्पताल में कराया जा सके।

इसे भी पढ़िए :  मध्य प्रदेश में 31 दिसंबर तक बंद रहेंगे स्कूल- कॉलेज, ऑनलाइन ही होगी पढ़ाई

प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,75,128 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 1,79,85,811 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि नवम्बर माह में पाॅजीटिविटी रेट 1.6 प्रतिशत है। सबसे अधिक पाॅजीटिविटी रेट वाले जनपद गौतमबुद्ध नगर, मेरठ, गाजियाबाद, लखनऊ तथा वाराणसी हैं तथा नवम्बर माह में ही सबसे कम पाॅजीटिविटी रेट वाले जनपद आंबेडकरनगर, हाथरस, बलरामपुर, कानपुर देहात तथा श्रावस्ती हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 2588 नये मामले आये हैं। प्रदेश में 23,806 कोरोना के एक्टिव मामले हैं। होम आइसोलेशन में 10,902 लोग हैं। उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में 2356 लोग ईलाज करा रहे हैं, इसके अतिरिक्त बाकी मरीज एल-1, एल-2 तथा एल-3 के सरकारी अस्पतालों मंे अपना ईलाज करा रहे हंै। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक कुल 4,95,415 लोग कोविड-19 से ठीक होकर पूर्ण उपचारित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 3,00,658 लोगों ने होम आइसोलेशन का विकल्प लिया है जिनमें से 2,89,756 व्यक्ति होम आइसोलेशन की अवधि पूर्ण कर उपचारित होकर अपने घर जा चुके हैं। प्रदेश में कोविड-19 रिकवरी रेट 94.04 प्रतिशत हो गया है।

इसे भी पढ़िए :  न्यायालय का चारधाम परियोजना समिति को रक्षा मंत्रालय के अनुरोध पर विचार करने का निर्देश

प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,61,396 क्षेत्रों में 4,60,990 टीम दिवस के माध्यम से 2,91,71,612 घरों के 14,27,89,340 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि कल ई-संजीवनी पोर्टल के माध्यम से 2719 लोगों ने चिकित्सकीय परामर्श प्राप्त किया। अब तक ई-संजीवनी पोर्टल के माध्यम से 2,24,357 लोगों ने घर पर रहकर ही चिकित्सकीय परामर्श प्राप्त किया।

प्रसाद ने बताया कि उत्तर प्रदेश में एक विशेष सुविधा द्वारा घर बैठे ही कोरोना जांच की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि डीजीएमपीयूपी की वेबसाइट पर अपना परिणाम प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर ओटीपी आने पर ओटीपी डालने पर कोरोना टेस्टिंग का परिणाम प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि जांच और दवाओं की पूरी चिकित्सा व्यवस्था निःशुल्क है। अपने संक्रमण को छिपाए नहीं लक्षण दिखने पर तत्काल जांच कराएं। प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों में पोस्ट कोविड केयर की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि बचाव से ही कोविड-19 की सेकेन्ड वेव से बच सकते हैं। उन्होंने कहा कि विशेषकर बच्चे, बुजुर्ग, महिलाएं तथा बीमार व्यक्तियों को संक्रमण से दूर रखकर कोविड-19 की सेकेन्ड वेव से बचाया जा सकता है।

इसे भी पढ़िए :  वकील के मास्क न पहनने पर मल्तवी हआ केस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seven − one =