अब स्पेशल ट्रेन से उतरें कहीं भी, किराया लगेगा 500 किमी का

0
109

नई दिल्ली 30 नबंवर। कोरोना काल में देश में रेग्युलर ट्रेनों का परिचालन बंद है। ऐसे में यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे स्पेशन ट्रेनें चला रहा है। अब इन ट्रेनों की सेवा और महंगी होने जा रही है। एक राष्ट्रीय दैनिक में छपी खबर के मुताबिक इन ट्रेनों में सफर करने वालों से स्पेशल चार्ज तो लिया ही जा रहा है और अब किलोमीटर रेस्ट्रिक्शन चार्ज की वसूली भी होने लगी है। लंबी दूरी की ट्रेनों में यात्री बीच के जिस भी स्टेशन पर उतरें, लेकिन उन्हें 500 किमी तक का किराया देना ही होगा।

रेलवे अधिकारियों की मानें तो अगर कोई भी यात्री राजेंद्र नगर हावड़ा स्पेशल से एसी थर्ड में राजेन्द्र नगर टर्मिनल से क्यूल, झाझा या जसीडीह में किसी भी स्टेशन तक जाना चाह रहे हों तो टिकट उसी स्टेशन का दिया जाएगा परंतु किराया हावड़ा तक का देना होगा। स्पेशल ट्रेनों के लिए कम से कम 500 किमी का किराया अनिवार्य कर दिया गया है। ऐसे में पाटलीपुत्र लखनऊ स्पेशल ट्रेन से अगर कोई यात्री गोरखपुर या छपरा जाना चाहेगा तो उसे एसी थ्री में 500 किमी तक का किराया देना होगा।

कितना होगा स्पेशल चार्ज
पटना जंक्शन से किसी भी स्पेशल ट्रेन से यात्री स्लीपर, एसी थर्ड अथवा एसी सेकंड में दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन, इलाहाबाद या बीच के किसी भी स्टेशन तक जाएंगे तो उन्हें कानपुर या लखनऊ तक का किराया देना होगा। आधिकारिक सूत्रों की मानें तो रेलवे की ओर से स्पेशल किराये को भी श्रेणीवार क्लासीफाई कर दिया गया है। सेकंड क्लास के लिए बेस फेयर का 10 फीसदी और स्लीपर तथा एसी क्लास के लिए अधिकतम 30 फीसदी स्पेशल चार्ज के रूप में लिया जाएगा।

इस बारे में पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने कहा कि स्पेशल ट्रेनों में स्पेशल किराया लेने का प्रावधान काफी पहले से है। कोरोना काल में रेलवे ट्रेनों और स्टेशनों के रखरखाव पर काफी खर्च कर रहा है। इसके लिए मूल किराये का 10 से 20 फीसदी तक अधिक लेने का प्रावधान है।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments