हरिद्वार कुंभ में सभी अखाड़े शाही शान के साथ होंगे शामिल

4
loading...

हरिद्वार, 22 नबंवर। वर्ष 2021 के हरिद्वार कुंभ में सभी 13 अखाड़े भाग लेंगे। अखाड़े मेला क्षेत्र में टेंट व कैंप लगाने के साथ न सिर्फ पेशवाई व शाही जुलूस निकालेंगे, बल्कि शाही स्नान की शोभा भी बढ़ाएंगे। सभी अखाड़े मेला क्षेत्र में आवंटित भूमि पर अपनी-अपनी छावनी और कथा पंडाल स्थापित करेंगे। माया देवी मंदिर परिसर स्थित भैरव मंदिर भवन में हुई अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में यह निर्णय लिया गया।

बैठक के बाद परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि ने पत्रकारों को यह जानकारी दी। बताया कि बैरागी अखाड़ों की नाराजगी के चलते बैठक काफी विलंब से शुरू हो पाई। अखाड़ों की नाराजगी दूर करने के लिए बैठक से पूर्व उन्हें स्वयं बैरागी कैंप जाना पड़ा। बैरागी अखाड़ों की मांग है कि उनकी छावनी के लिए बैरागी कैंप क्षेत्र में ही भूमि का आवंटन किया जाए। बताया कि उनके समझाने पर बैरागी संत बैठक में शामिल तो हुए, लेकिन उनकी नाराजगी दूर नहीं हुई। ऐसे में बैठक का पहला सत्र हंगामे की भेंट चढ़ गया।

इसे भी पढ़िए :  आईना ने उठायी मांग, पत्रकारों के हत्यारों को गिरफ्तार करने में असफल पुलिसकर्मी हों सस्पेंड राकेश सिंह आदि के परिवार को स्वालंबी व आर्थिक रूप से मजबूत बनाने हेतु सरकार दे ध्यान

श्रीमहंत नरेंद्र गिरि के अनुसार इस दौरान कुंभ मेला प्रभारी मंत्री मदन कौशिक ने स्पष्ट किया कि सरकार ने कुंभ मेला क्षेत्र में किसी भी अखाड़े के टेंट या कैंप लगाने पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया है। मंत्री ने यह भी कहा कि फिलवक्त राज्य सरकार या कुंभ मेला अधिष्ठान की ऐसी न तो कोई योजना है और न वह इसके लिए तैयार ही है। मंत्री ने दावा किया कि सरकार दिव्य एवं भव्य कुंभ कराने के लिए कृत संकल्प है और इसके लिए युद्धस्तर पर तैयारियां चल रही हैं। बैठक में कुंभ मेलाधिकारी दीपक रावत और आइजी कुंभ संजय गुंज्याल भी शामिल हुए।

इसे भी पढ़िए :  आगामी गर्मियों में सभी जिले होंगे ट्रिपिंग फ्री: ऊर्जा मंत्री

बैठक में यह भी तय हुआ कि बैरागी कैंप से चार धर्मस्थलों को 31 मई के बाद हटाए जाने संबंंधी सुप्रीम कोर्ट के आदेश को डबल बैंच में चुनौती दी जाएगी। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ने बताया कि बैरागी संत चाहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट के उक्त आदेश को रद करवाने के लिए प्रदेश सरकार भी प्रभावी कदम उठाए। उनका यह भी कहना था कि बढ़ते कोरोना संक्रमण का आकलन कर फरवरी में संत इस मसले पर दोबारा चर्चा करेंगे।

इसे भी पढ़िए :  फरार IPS अधिकारी मणिलाल पाटीदार पर 25 हजार का इनाम घोषित, सिपाही अरूण यादव पर भी शिकंजा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × two =