Covid-19 treatment: कोरोना का संभावित इलाज खोजने वाली भारतीय मूल की 14 वर्षीय अनिका चेब्रोलु पुरस्कृत

107
loading...

ह्यूस्टन। एक ओर जहां पूरी दुनिया किसी तरह कोविड-19 महामारी से निजात पाने के लिए वैक्सीन पर शोध कर रही है वहीं मात्र 14 वर्ष की लड़की ने कुछ ऐसा खोज निकाला है जो इस घातक वायरस के संक्रमण से निजात दिला सकती है। अमेरिका में भारतीय मूल की एक छात्रा ने कोरोना वायरस से मुकाबले की दिशा में अपने शोध के लिए 25 हजार डॉलर यानि करीब 18 लाख रुपये का इनाम जीता है। उसके इस शोध कार्य से कोरोना के लिए उपचार मुहैया हो सकता है।

इसे भी पढ़िए :  बरेली में लव जिहाद का पहला मुकदमा दर्ज, धर्म परिवर्तन कर निकाह करने का बना रहा था दबाव

यह घातक वायरस अपने इसी प्रोटीन के जरिये अपना संक्रमण फैलाता है। अनिका ने बताया कि वह पिछले साल इंफ्लुएंजा से गंभीर रूप से बीमार हुई थी और इसलिए वह इसका इलाज खोजना चाहती थी। लेकिन बाद में कोरोना महामारी शुरू होने के बाद उसने अपना इरादा बदल दिया था। अमेरिकी कंपनी थ्रीएम द्वारा कराई गई इस प्रतियोगिता के फाइनल में अनिका समेत दस प्रतिभागी शामिल हुए थे।

इसे भी पढ़िए :  पराली जलाने पर रोक नलगाने पर आठ डीसीओ से जवाब तलब

यह घातक वायरस अपनी प्रोटीन से ही संक्रमण फैलाता है और इसे ही निष्क्रिय करने के लिए अनिका ने एक मॉलिक्यूल की खोज कर ली है।अनिका ने अपनी खोज में in-silico प्रक्रिया का इस्तेमाल कर एक मॉलिक्यूल को खोज निकाला जो सार्स कोविड-2 वायरस (SARS-CoV-2 virus) के स्पाइक प्रोटीन के साथ जुड़ जाएगा। अनिका ने एबीसी न्यूज को बताया, ‘मैंने इस मॉलिक्यूल को विकसित किया जो वायरस की उस प्रोटीन के साथ जुड़ सकता है और इसके बाद यह प्रोटीन अपना काम करना बंद कर देगा।’ अनिका ने सीएनएन से बताया कि 8वीं कक्षा में उन्होंने अपना प्रोजेक्ट सबमिट कर दिया था।

इसे भी पढ़िए :  नव निर्वाचित विधायक ऊषा सिरोही को दिलायी शपथ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × three =