बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ाता है पौष्टिक आहार, निरोग रहना है तो ऐसी रखें अपनी दिनचर्या

11
loading...

संतुलित पौष्टिक आहार बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ाता है और स्वस्थ शरीर का निर्माण करता है। स्वस्थ आहार मनुष्य को ऊर्जावान, निरोगी व चुस्त-दुरुस्त बनाए रखता है। नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. रजत कुमार के अनुसार हर व्यक्ति की अलग-अलग कद, काठी, उम्र, लिंग एवं कार्य शैली के अनुसार दैनिक कैलोरी की आवश्यकता होती है।

भोजन स्वास्थ्यवर्धक व एंटीऑक्सीडेंट से युक्त लें।
प्रोटीन युक्त आहार जैसे- हल्दी या केशर डालकर दूध पियें। दही या गाढ़ी मिक्स दाल लेते रहें।
एंटी ऑक्सीडेंट के लिए संतरा, नींबू, आंवला, अनन्नास, बादाम, अखरोट, शहद, सब्जियों के सूप, गुनगुना पानी लेते रहें।
अदरक, लहसुन, तुलसी का पत्ता, काली मिर्च भी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
शुद्ध जल व स्वच्छ पोषक तत्वों से बना भोजन करें।
जंक फूड, फास्ट फूड, वसा युक्त भोजन, कोल्ड ड्रिंक आदि से बचें।
सुबह का नाश्ता नौ बजे तक व दोपहर के भोजन के पूर्व 12 से एक बजे बीच में फल व सलाद लें। दोपहर का भोजन दो बजे तक कर लें।
खाली पेट चाय या काफी कभी न पीयें।
भोजन में साक-सब्जियां, दूध-दही, फल व अंकुरित अनाज को शामिल करें।
ऐसे बढ़ेगी बढ़ेगी प्रतिरोधक क्षमता

इसे भी पढ़िए :  अमेजन 24 सितंबर को लॉन्च करेगा नया इको, एलेक्सा डिवाइस

गोरखपुर जिला अस्‍पताल की डायटीशियन रिंकी गुप्ता के अनुसार कुछ चीजों के सेवन से यह क्षमता बढ़ जाएगी और कोरोना का खतरा टल जाएगा।

यह करें, रहेंगे सुरक्षित

विटामिन सी व डी का सेवन करें। डी का मुख्य स्रोत धूप है, साथ ही दूध का सेवन कर सकते हैं। हरी पत्तेदार सब्जियों में विटामिन सी मिलता है।
आंवला विटामिन सी का अच्छा स्रोत है। एक गिलास पानी में दो चम्मच आंवले का रस मिलाकर पियें, आंवले की चटनी, मुरब्बा कैंडी का सेवन कर सकते हैं।
नींबू व संतरा में भरपूर विटामिन सी होता है। इनमें पाए जाने वाले एंटी ऑक्सीडेंट बीमारियों से बचाने में मदद करते हैं।
दालचीनी में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले गुण पाए जाते हैं। गर्म पानी में दालचीनी व तुलसी पत्ता मिलाकर पियें।
हल्दी में एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल व एंटी वायरल गुण होते हैं। यह शरीर के विषैले तत्वों को बाहर कर देती है।
खाली पेट तुलसी के पत्तियों का रस पियें या तुलसी, अदरक व नींबू की चाय लें।
मुलेठी का सेवन करने से प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। यह वायरल संक्रमण से बचाने में मददगार है।
ब्रोकली में विटामिन सी पाया जाता है।
टमाटर व कच्चा लहसुन भी प्रतिरोधक क्षमता के विकास में सहायक है।
गिलोय का रस पीना ज्यादा लाभप्रद है। यह अनेक बीमारियों से लडऩे की शक्ति प्रदान करती है।

इसे भी पढ़िए :  हाथियों से हो रहे नुकसान को रोकेगा एनाइडर्स, कैसे करेगा काम जानें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 4 =