महोबा के एसपी के विरूद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज, है एक अच्छा संदेश

30
loading...

प्रदेश में कानून व्यवस्था सुधारने और आम आदमी कोे भयमुक्त वातावरण का अहसास कराने के लिए केंद्र व प्रदेश की सरकार द्वारा जो प्रयास किए जा रहे हैं उनके तहत अब किसी भी दोषी अफसरों के पद की चिंता किए बिना उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। इसी क्रम में कारोबारी इंद्रकात त्रिपाठी की मौत के बाद महोबा के पूर्व एसपी एमएल पाटीदार तथा अन्य के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज हो गया बताते हैं। खबर के अनुसार सरकार ने जांच के लिए गठित एसआईटी की कमान वाराणसी के आईजी विजय सिंह मीणा को सौंपी है। जोन के एडीजी प्रेमप्रकाश आईजी के सत्यानारायण और कमिश्नर बांदा गौरव दयाल आदि ने इस संदर्भ में पकड़े गए मृतक व्यापारी के पार्टनर बल्लू और पुरूषोत्तम को पूछताछ के बाद छोड़ दिया बताते हैं। लेकिन इस प्रकरण में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के साथ साथ कुछ और के विरूद्ध जो मुकदमे दर्ज हुए हैं उससे अब यह स्पष्ट हो रहा है कि सरकार जबरदस्ती का सिंघम बनने और अपने क्षेत्र की जनता का उत्पीड़न करने वाले अफसरों को बख्शने वाली नहीं है। क्योंकि बताते चलें कि इससे पूर्व दो डीआईजी भ्रष्टाचार में निलंबित हो चुके हैं तो कुछ आईपीएस के खिलाफ कार्रवाई चल रही है। जो इस बात का प्रतीक है कि माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की भावनओं के तहत आम नागरिक को सुरक्षा और उन्हें बिना किसी डर के जीवन यापन करने का मौका देने के लिए जबरदस्ती कारण कोई भी हो झूठे मामलों में फंसाकर लोगों को परेशान करने वाले अफसर या सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई का सिलसिला शुरू हो गया है। जो एक शांति प्रिय नागरिकों के लिए अच्छी खबर कही जा सकती है।

इसे भी पढ़िए :  बिहार में 28 सितंबर से खुलेंगे सभी स्कूल, सरकार ने जारी की गाइडलाइन

 

– रवि कुमार विश्नोई
सम्पादक – दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
अध्यक्ष – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन
आईना, सोशल मीडिया एसोसिएशन (एसएमए)
MD – www.tazzakhabar.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × 1 =