वैज्ञानिकों ने खोज निकाला कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के इलाज का ये फॉर्मूला

285
loading...

अगर भोलेशंकर के प्रिय भांग को आप सिर्फ नशे का साधन मानते हैं, तो आप गलत हैं क्योंकि अब इसी भांग से असाध्य रोगों का भी इलाज वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाला है. उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर जिले में पंतनगर सीमैप के वैज्ञानिकों की टीम ने कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के इलाज का फॉर्मूला भांग में ढूंढ निकाला है. वैज्ञानिक भांग में पाए जाने वाले औषधीय तत्व टीएचसी-ए, सीबीडी व कैनाविनायड युक्त भांग की प्रजाति विकसित करने में जुटे हैं और उन्हें सफलता भी हाथ लगी है. यानि अगर सब कुछ ठीक ठाक रहा तो जल्द ही भांग से निकलने वाले औषधीय तत्वों से कैंसर व अन्य गंभीर बीमारियों के लिए कारगर दवाइयां बन सकेंगी. सीएसआईआर (काउंसिल ऑफ साइंटिस्ट एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च) के ही उपक्रम सीमैप के वैज्ञानिकों ने एक साल के शोध में पाया कि हिमालयी क्षेत्रो में पाए जाने वाले भांग के पेड़ों से निकलने वाले पदार्थों से गंभीर बीमारियों का इलाज संभव है. इसकी जानकारी मिलते ही मुंबई की एक संस्था ने सीमैप अनुसंधान केंद्र को 98 लाख रूपए की परियोजना जनवरी 2019 में सौंप दी. इसी परियोजना के तहत उच्च गुणवत्ता वाली प्रजाति और तकनीक विकसित की जा रही है. वैज्ञानिकों को इस बात की पूरी उम्मीद है कि जल्द ही भांग की आवश्यक प्रजाति विकसित कर उसमें उपलब्ध तत्व जैसे टीएचसी, सीबीडी, केनाविनायड व टीएचसी-ए के प्रयोग से कई प्रकार की असाध्य बीमारियों जैसे कैंसर, मिर्गी, डिप्रेशन आदि की दवा बनाने में मदद मिलेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 1 =