केंद्र सरकार का महिलाओं को तोहफा! अब सिर्फ 1 रुपये में मिलेगा ‘सैनिटरी नैपकिंस’

57
loading...

नई दिल्ली: Prime Minister के ऐलान के बाद, अब भारत में आज से सभी Jan Aushadhi Kendra पर Sanitary pad की कीमत बस 1 रुपए होगी. 15 अगस्त को अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री ने ऐलान किया था कि अब भारत में महिलाओं को सैनेटरी नैपकिंस 2.50 की जगह 1 रुपए में उपलब्ध कराया जायेगा.

1 रुपए में Biodegradable Napkins
प्रधानमंत्री के ऐलान के बाद अब Women Health को देखते हुए Central Government ने अपने सभी जन औषधि केंद्रों में Sanitary napkins का दाम 1 रुपया कर दिया है. आज से सभी जन औषिधि केंद्रों पर सिर्फ 1 रुपये में सैनेटरी नैपकिंस खरीदे जा सकेंगे. अब तक ‘सुविधा’ के नाम से जन औषिधि केंद्रों में ये Biodegradable napkins 2.50 रुपए में मिलते थे जिनका दाम अब घटा कर 1 रुपया कर दिया गया है. अभी तक 4 नैपकिन्स का एक पैकेट 10 रुपये में मिलता था लेकिन अब इसको सिर्फ 4 रुपये में महिलाओं को उपलब्ध कराया जाएगा.

इसे भी पढ़िए :  हाथियों से हो रहे नुकसान को रोकेगा एनाइडर्स, कैसे करेगा काम जानें

प्रधानमंत्री ने किया था ऐलान
Prime Minister Narendra Modi ने 15 अगस्त के अपने भाषण में सैनेटरी नैपकिन्स 1 रुपये में उपलब्ध कराने का ऐलान किया था. इस से पहले भाजपा ने 2019 के अपने ‘घोषणापत्र’ में भी इसका वादा किया था जिसको सरकार अब पूरा कर रही है. आज से ‘सुविधा’ के नाम से ये बायोडिग्रेडेबल नैपकिंस (Biodegradable napkins) देशभर में 5500 जन औषिधि केंद्रों में उपलब्ध कराए जाएंगे. पिछले एक साल में इन ‘जन औषिधि केंद्रों’ से 2.2 करोड़ नैपकिंस बेचे जा चुके हैं और ये माना जा रहा है कि दाम कम होने से इनकी बिक्री दोगुनी हो जाएगी.

इसे भी पढ़िए :  नई स्टडी: कोरोना से बचना है तो करें इस चीज का इस्तेमाल 

भारत में 31.2 करोड़ महिलाएं अस्वस्थ
भारत में ऐसी 31.2 करोड़ महिलाएं हैं जिन्हें ‘मासिक धर्म’ संबंधी स्वच्छ और प्रभावी संरक्षण उपलब्ध नहीं है. देश में महिलाओं में सबसे ज्यादा बीमारियां उनके स्वच्छ नहीं रहने के कारन होती हैं. यहां तक कि भारत में 10 में से 9 महिलाओं को हर महीने अपने शारीरिक समस्या का सामना करना पड़ता है. साधन और आर्थिक स्थिति खराब होने की वजह से महिलाएं गंदे कपड़े या पुरानी पत्तियों जैसी नुकसानदेह चीजों का सहारा लेती हैं जिनसे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा होती है.

इसे भी पढ़िए :  गाजियाबाद में इंडस्ट्रियल एरिया से बाहर चल रहीं 3300 फैक्ट्रियां होंगी बंद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

sixteen + eighteen =