30 साल से रोज 15 किलोमीटर चलकर लोगों तक खत पहुंचा रहा है यह पोस्टमैन

14
loading...

डी शिवन ने तमिलनाडु के एक दूरदराज के इलाके में पत्र पहुंचाने के लिए 30 साल तक लगभग 15 किलोमीटर की दूरी तय की. यह सफर उनके लिए काफी कठिन रहा. घने जंगलों और कठिन इलाक़ों से वो गुजरते थे. जंगली जानवरों द्वारा किए जाने वाले संभावित हमलों का भी उन्होंने सामना किया. 3 दशक तक पूरी निष्ठा से काम करने के बाद वो रिटायर हो चुके हैं. उनकी समर्पित सेवा को सोशल मीडिया पर पहचाना और सराहा जा रहा है.

इसे भी पढ़िए :  स्‍वतंत्रता दिवस पर इस बार राष्‍ट्रपति भवन में कम होगें गेस्ट, सेनाओं हेतु होगा म्‍यूजिकल परफॉर्मेंस

डी सिवन ने कुन्नूर के दुर्गम क्षेत्रों में पत्र पहुंचाए, जिसके लिए उन्हें घने जंगलों से गुजरना पड़ता था और फिसलन भरी धाराओं को पार करना पड़ता था। इतना ही नहीं उन्होंने अपनी नौकरी के लिए, जंगली जानवरों द्वारा हमलों का भी सामना किया और इंडिया पोस्ट में अपनी सेवा के दौरान हाथियों, भालू और गौरों ने भी उनका पीछा किया.

आईएएस अधिकारी सुप्रिया साहू ने ट्विटर पर पोस्टमैन की सराहना की, जिन्होंने “अत्यंत समर्पण” के साथ अपना कर्तव्य निभाया. सुप्रीया साहू ने फोटो पोस्ट करते हुए कैप्शन में लिखा, ‘पोस्टमैन डी शिवन हर रोज 15 किलोमीटर चलकर कुन्नूर के घने जंगलों में हाथी, भालू, गौर का सामना करते हुए लोगों तक खत पहुंचाते हैं. वह इस दौरान झरने और सुरंग भी पार करते हैं. उन्होंने अपनी ड्यूटी पूरे 30 साल पूरी निष्ठा से निभाई, पिछले हफ्ते वह रिटायर हुए हैं.’

इसे भी पढ़िए :  महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री शिवाजी राव पाटिल निलंगेकर का निधन

सुप्रिया ने इस पोस्ट को 8 जुलाई को शेयर किया था, जिसके अब तक 63 हजार से ज्यादा लाइक्स और 12 हजार से ज्यादा रि-ट्वीट्स हो चुके हैं. हजारों लोगों ने इस पोस्ट पर सिवन की जमकर तारीफ की. कई लोगों ने सिवन की उनके समर्पण के लिए प्रशंसा की और उन्हें उनकी सेवा के लिए धन्यवाद दिया. जबकि अन्य ने कहा कि उनको पुरस्कार मिलना चाहिए. ट्विटर पर लोगों ने ऐसे रिएक्शन्स दिए हैं…

इसे भी पढ़िए :  मंदिर निर्माण तो अब रूकने वाला है नही देश के विकास व हिंदू मुस्लिम एकता देश के विकास के लिए विश्व बमन करना छोड़े

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve + 15 =