वैक्सीन लगने के बाद बंदरों में बेअसर हुआ कोरोना, दो प्रयोगों ने जगाई उम्मीद

65
loading...

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की वैक्सीन की खोज के बीच बंदरों पर की गईं दो स्टडीज उम्मीदें बढ़ाने वाली हैं. स्टडी जर्नल साइंस में प्रकाशित ये स्टडी प्रोटोटाइप वैक्सीन पर की गई है. Study में ये जानने की कोशिश की गई कि SARS-CoV-2 के दोबारा संपर्क में आने पर immunity काम करती है या नहीं. बंदरों पर की गई Study के जरिए ये समझने की कोशिश की गई कि इनमें प्राकृतिक संक्रमण या वैक्सीन से सुरक्षात्मक वायरस immunity विकसित होती है या नहीं.

बोस्टन में सेंटर फॉर वायरोलॉजी एंड वैक्सीन रिसर्च के डायरेक्टर डैन बैरोच ने कहा, ‘वैश्विक Covid-19 महामारी के लिए Vaccine को ज्यादा प्राथमिकता दी जा रही है, लेकिन वर्तमान में SARS-CoV-2 वायरस के लिए सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा के बारे में बहुत कम जानकारी उपलब्ध है.’

इसे भी पढ़िए :  भारतीय संस्कृति का पालन नहीं कर सकती तो प्रियंका चोपड़ा को पदमश्री सम्मान वापस कर देना चाहिए

डैन बैरोच ने कहा, इन दो स्टडीज में पता चला कि बंदरों पर प्रोटोटाइप वैक्सीन कोरोना वायरस इंफेक्शन से बचाव करती है और संक्रमण को दोबारा फैलने से रोकती है. शोधकर्ताओं ने पहली स्टडी के लिए नौ बंदरों को संक्रमित किया.

इन बंदरों में Covid-19 के लक्षण तो आए लेकिन साथ ही इनमें प्रोटेक्टिव एंटीबॉडी विकसित हो गई जिसकी वजह से ये बंदर कुछ दिनों में ही ठीक हो गए. इनकी इम्यूनिटी की जांच करने के लिए इन्हें SARS-CoV-2 के संपर्क में दोबारा लाया गया लेकिन इस बार उनमें वायरस के कोई लक्षण नहीं दिखे.

इसे भी पढ़िए :  कल होगा साल का दूसरा चंद्र ग्रहण, जानिए भारत में कैसा दिखेगा चंद्र ग्रहण

स्टडी के लेखकों ने आगाह किया कि बंदरों और मनुष्यों में होने वाले SARS-CoV-2 के संक्रमण के अंतर के कारण आगे भी इस तरह के शोध की आवश्यकता होगी. उन्होंने कहा, ‘SARS-CoV-2 संक्रमण मनुष्यों को दोबारा वायरस के संपर्क में आने के खतरे को प्रभावी रूप कम करता है या नहीं, इसके लिए कई क्लीनिकल स्टडीज करने की जरूरत होगी.

इसे भी पढ़िए :  जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज की प्राचार्य डॉ. आरतीलाल चंदानी का झांसी तबादला

दूसरी स्टडी के जिंगयू यू के नेतृत्व में की गई जिसमें प्रोटेक्टिव एंटीबॉडी विकसित करने के लिए 35 बंदरों को प्रोटोटाइप वैक्सीन दी गई. छह सप्ताह बाद इन्हें कोरोना वायरस के संपर्क में लाया गया. तब तक इनके खून में पर्याप्त मात्रा में एंटीबॉडी विकसित हो चुके थे जिससे इन पर वायरस का प्रभाव बेअसर रहा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen + one =