जान है तो जहां है, कोरोना से बचाव के प्रयास में ना आए कमी

10
loading...

कोरोना वायरस की जन्मदाता भूमि चीन के वुहान में अब इसमें कमी के समाचार सुनने को मिल रहे हैं तो डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट के अनुसार हवा में कोरोना का संक्रमण ना फैलने की रिपोर्ट है तो दूसरी तरफ कहा जा रहा है कि जैसे जैसे गर्मी बढ़ेगी इसका प्रभाव खत्म होने लगेगा और एक सप्ताह में तापमान बताएगा कि क्या स्थिति रही लेकिन फिर भी पुरानी कहावत जान है तो जहान है कोरोना से बचाव के प्रयासों में कहीं कोई कमी नहीं आनी चाहिए।

हिमाचल प्रदेश विधानसभा अनिश्चित काल के लिए स्थगित
बताते चलें कि इसी क्रम में हिमाचल प्रदेश में विधानसभा अनिश्चिितकाल के लिए स्थगित कर दी गई है तो 30 राज्यों ओर केंद्र शासित प्रदेशों में लाॅकडाउन व सख्ती करने के अतिरिक्त दिल्ली में बाहरी वाहनों का प्रवेश अब पास से हो सकेगा तथा देखने को मिल रहा है कि शहरों में रहने वाले लोग ज्यादातर अपने घरों में ताला लगाकर अपने गांव की ओर रूख कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि आज रात के बाद घरेलू उड़ाने भी बंद कर दी जाएगीं।

290 देशों में रहने वाले परिवार
वैसे तो पूरी दुनिया से लोग लोग इस कठिन परिस्थिति में अपने घरों को सुरक्षित जा रहे हैं। लेकिन दुनिया के 210 देशों में रहने वाले पंजाबी एक खबर के अनुसार वहां से अपने परिवार को लेकर वापस देश आ रहे हैं ऐसी खबरें आ रही है। कोरोना से बचाव के लिए जेलों में बने मास्क जल्दी ही मिलने लगेंगे। तो दूसरी ओर कई बड़े उद्योगों और व्यापारी व समाजसेवी संगठन इसके बचाव के उपाय हेतु मदद के लिए आगे आ सकते हैं। तो यह संभावनाएं भी व्यक्त की जा रही है कि पीएम मोदी बेलडाउन पैकेज की घोषणा मदद की दृष्टिकोण से कर सकते हैं। यह भी बताया जा रहा है कि हाईडोसिकक्लोरीन नामक दवाई कोरोना से बचाव के रूप में उभरकर आ रही है। मगर एक चर्चा जोरों पर है कि अनुमति के बावजूद प्राइवेट लैब संचालक इनकी जांच करने से आखिर मना किस आधार पर कर रहे हैं।

इसे भी पढ़िए :  पुलिस के डंडों से बचने के लिए शख्स ने निकाला गजब का जुगाड़

तिहाड़ से रिहा होंगे 3000 कैदी
चर्चा है कि जेलों और सार्वजनिक स्थानों पर भीड़ कम करने के दृष्टिकोण से जेलों से कैदी रिहा हो सकते हैं तो दिल्ली की तिहाड़ जेल से 3000 कैदियों को रिहा किए जाने की चर्चा है।

विदेश से आने वाले लोगों को ?
आज सरकार के प्रयासों के चलते आम नागरिक भी एक दूसरे को यह सलाह देते नजर आए कि अगर आप के यहां कोई विदेश से आया हो अथवा सूचना हो तो उसे जिम्मेदार अधिकारियों तक जरूर पहुंचाएं क्योंकि उनमें से कोई प्रभावित होगा तो इलाज हो सकता है और संदेह होगा तो उससे छुटकारा भी मिल सकता है।

विपक्ष कर रहा है सहयोग
बढ़ती गर्मी को लेकर जारी चर्चाएं आज कुछ मंदी हो सकती हैं क्योंकि खबर है कि बादल छा सकते हैं तो कल 25 मार्च को पहले नवरात्र को हो सकती है बूंदाबांदी। कोरोना के चलते सीए के विरोध में लखनउ दिल्ली, देवबंद आदि में जो धरने प्रदर्शन चल रहे थे उनमें या तो कम उपस्थिति नजर आने लगी है अथवा कुछ के द्वारा धरनास्थल छोड़ दिया गया है।

इसे भी पढ़िए :  केंद्रीय मंत्रिमंडल सचिव ने कहा नहीं बढ़ेगी लाॅकडाउन की सीमा

ओलंपिक से हटा कनाडा
विपक्ष के लोग भी कोरोना वायरस से बचाव के प्रयासों के तहत अब सरकार को अपने सुझाव ओर जनता को सहयोग देने लगे हैं। अपना दल की सांसद अनुप्रिया सांसद बसपा सांसद रितेश पांडेय और यूपी कांग्रेस अध्यक्ष ने लोगों से आग्रह किया है कि वो इस कठिन घड़ी में संयम से काम लें।
दूसरी ओर काफी दिनों से ओलंपिक खेल टलने की संभावनाअेां के तहत कोरोना को लेकर कनाडा इससे हटने वाला पहला देश हो गया है। तो अन्यों के द्वारा भी इस संदर्भ में चर्चाएं और विचार किया जा रहा है।
एक अच्छी खबर आज यह पढ़ने को मिली कि 85 फीसदी लोगों को कोरोना होने का पता ही नहीं चलेगा ओैर वो ठीक भी हो जाएंगे क्येांकि बीमारी का ज्यादा आक्रमक ना होना इसका कारण बताया जा रहा है। दूसरी ओर यूपी के बलरामपुर में स्थित चीनी मिल में बनने वाला सेनेटाइजर अब देशभर में छिड़कने और कोरोना का प्रभाव कम करने में काम आएगा। सरकार द्वारा इसके लिए मिल को अनुमति दे दी गई है।

वरूण गांधी बोले
राहुल गांधी ने पीएम मोदी से पूछा है कि मास्क निर्यात करने की अनुमति क्यों दी गई तो पीलीभीत के सांसद वरूण गांधी ने लाॅकडाउन के दौरान डीएम और एसएसपी के व्यवहार और आचरण को गलत बताया है।

लोन और एफडी ना करने के निर्देश
बेैंकों में भीड़ ना बढ़ने देने के लिए नए खाते ना खोलने देने और नई एफडी व लोन जारी ना करने के निर्देश दिए गए बताए जाते हें। तो दूसरी ओर बागपत के मवीकलां गांव में एक स्कूल संचालक ने स्कूल खोलकर बच्चों को पढ़ाना ही शुरू कर दिया तो गत दिवस मेरठ के थाना मेडिकल क्षेत्र में हुई एक घुडचढ़ी चर्चा का विषय बनी हुई हैं।
कोरोना को लेकर सात राज्यों में होने वाले राज्यसभा और यूपी में होने वाले निकाय चुनाव पर भी जागरूक नागरिकों द्वारा रोक लगने की चर्चा की जा रही है। होगा क्या यह समय ही बताएगा।

इसे भी पढ़िए :  योगी सरकार ने यूपी बॉर्डर पर फंसे मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए 1000 बसों की व्यवस्था की

सोशल मीडिया विश्वास कायम करें
सरकार अफसर और जनप्रतिनिधि सवाल कर रहे हैं कि कोरोना के प्रभाव के चलते अफवाह ना फैलाएं। इसके बावजूद गत दिवस अफवाह फैली कि रात को सोने पर पत्थर बन जाएंगे जिससे मेरठ समेत आसपास के कई जिले प्रभावित रहे। कोरोना को लेकर सोशल मीडिया पर आ रही खबरें चर्चा का विषय बन रही हैं। कई जागरूक और जिम्मेदार नागरिकों ने सोशल मीडिया पर सक्रिय लोगों से आग्रह किया है कि वो किसी भी प्रकार की गलत सूचना पर आधारित गलत खबर अपने यहां ना चलाए क्योंकि विश्वसनीयता कायम करने हेतु इस कठिन समय में संयम बरतना हर किसी के लिए बहुत जरूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 + sixteen =