Maruti Suzuki ने पेश किया updated कमर्शियल वाहन लाइन-अप

17
loading...

नई दिल्ली 17 मार्च। पिछले सिर्फ तीन साल में Maruti Suzuki इंडिया ने 320 स्टोर्स के ज़रिए भारत के 235 से ज़्यादा शहरों में अपने हल्के कमर्शियल वाहन बेचना शुरू कर दिया है.

हल्के वाणिज्यिक या कहें तो कमर्शियल वाहनों पर अबतक ऑटोमेकर्स ने इतना ध्यान नहीं दिया है जितना की इन्हें मिलना चाहिए, लेकिन देर-सवेर अब कंपनियों ने इस कैटेगिरी के वाहनों पर फोकस करना शुरू कर दिया है. ऐसे में ये अच्छा उपाय है कि सामान्य वाहनों से लिए गए फीचर्स को इन वाहनों में कारगर बनाना और इसके साथ ही इनकी कीमत को भी कम रखना. Maruti Suzuki ने ये काम करना शुरू कर दिया है और वो भी बिल्कुल सही समय पर, कंपनी ने कमर्शियल और फ्लीट ग्राहकों के लिए टूर रेन्ज उपलब्ध कराई है जो हमारे लिए काफी नई है. बता दें कि पिछले तीन साल में कंपनी ने 320 स्टोर्स के साथ भारत के 235 से ज़्यादा शहरों में अपने इन वाहनों को बेचना शुरू कर दिया है.

इसे भी पढ़िए :  हलवाई, ब्रेकरी और होटलों में बंद सामान का निस्तारण कर उनकी सफाई की दी जाए अनुमति

Maruti Suzuki ने हल्के कमर्शियल वाहनों के बाज़ार में 2016 में एंट्री की थी जहां कंपनी को 240% की दमदार ग्रोथ दिखाई दी. बिक्री में इस बढ़ोतरी के मद्देनज़र टूर मॉडल्स की पूरी रेन्ज पेश करने का ऐलान किया गया जिसमें कार्गो उठाने वाली वैन और सवारी वाहन शामिल हैं. इस टूर रेन्ज को 5 कैटिगिरी में विभाजित किया गया है. टूर H1 कंपनी की ऑल्टो 800 का टैक्सी वर्ज़न है, टूर H2 सेलेरियो है, टूर S कंपनी की पिछली जनरेशन डिज़ायर है, टूर V में ईको कार्गो और मिनी वैन आती हैं और अंत में टूर M है जो नई जनरेशन Maruti Suzuki अर्टिगा का बेस वेरिएंट है. इन सबके बाद Maruti Suzuki सुपर कैरियर LCV भी भारत में उपलब्ध करा रही है.

इसे भी पढ़िए :  दिल्ली सरकार ने अगले महीने के लिए राशन वितरित करना शुरू किया

Maruti Suzuki इंडिया लिमिटेड की सेल्स और मार्केटिंग के एग्ज़िक्यूटिव डायरेक्टर शशांक श्रीवास्तव ने कहा कि, “Maruti Suzuki का कमर्शियल चैनल भारत में सबसे तेज़ी से ग्रोथ पाने वाला नेटवर्क है. मालिक होने के साथ वाहन चलाने वाले तरक्की पसंद लोगों का पूरा धड़ा जो जोखिम उठाना जानता है, कंपनी पर विश्वास करता है. इनका मकसद एक निश्चित आय हासिल करना है और Maruti Suzuki के ये वाहन ऐसा करने में इनकी मदद करते हैं. ऐसे ही टैक्सी सर्विस वाले भी इन्हीं वाहनों के साथ आय में बढ़ोतरी और व्यापार में इज़ाफा करने की चाह रखते हैं. हमारी रिसर्च के अनुसार ग्राहकों की मांग क्या है इसे ध्यान में रखते हुए हमने ऐसे कमर्शियल वाहनों के बाज़ार में अपने आप को मजबूत करना शुरू किया है.”

इसे भी पढ़िए :  देशभर में साधु संताओं के रहने और भोजन की भी हो व्यवस्था

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

9 − one =