समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता शाकिर अली का 67 वर्ष की आयु में निधन

16
loading...

लखनऊ 24 फरवरी। समाजवादी पार्टी  के वरिष्ठ नेता शाकिर अली का गत दिवस लखनऊ के मेदांता अस्पताल में 67 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. वह करीब एक महीने से मेदांता अस्पताल में ही भर्ती थे. शाकिर अली किडनी की बीमारी से ग्रसित थे. शाकिर अनी समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं. मूल रूप से देवरिया के करजहां गांव में पैदा हुए शाकिर अली ने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से स्नातक की पढ़ाई पूरी की.

इसे भी पढ़िए :  Corona virus: पॉजिटिव मामलों की संख्या बढ़कर 873 हुई, लेकिन 78 ठीक भी हुए

Ministers in Uttar Pradesh government twice

शाकिर अली ने 1989 और 1991 में गौरीबाजार से निर्दल चुनाव लड़े. साल 1993 में सपा-बसपा गठबंधन में गौरीबाजार सीट बसपा के खाते में गई. शाकिर अली बसपा के टिकट पर गौरीबाजार से जीतकर विधानसभा पहुंचे. सपा और बसपा की गठबंधन सरकार में शाकिर अली उत्तर प्रदेश के शिक्षा मंत्री बने. जब यह गठबंधन टूटा तो वह सपा में शामिल हो गए. इसके बाद समाजवादी पार्टी के साथ रहकर ही उन्होंने अपनी राजनीतिक पारी खेली.

इसे भी पढ़िए :  केंद्र सरकार द्वारा आम जनता के लिए बिजली राहत पैकेज तैयार 

गौरीबाजार और पथरदेवा से रहे विधायक

शाकिर अली को 1996 और 2000 में गौरीबाजार विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में हार का सामना करना पड़ा. साल 2002 में वह एक बार फिर गौरीबाजार विधानसभा सीट से ही समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव जीते और उत्तर प्रदेश सरकार में लघु सिंचाई मंत्री बने. उन्हें 2007 के विधानसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा. परिसीमन में गौरीबाजार विधानसभा समाप्त होकर पथरदेवा विधानसभा सीट में तब्दील हुई. शाकिर अली ने साल 2012 के विधानसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी सूर्यप्रताप शाही को हराकर पथरदेवा से विधायक बने. हालांकि अखिलेश सरकार में उन्हें मंत्री पद नहीं मिला.

इसे भी पढ़िए :  मायावती की योगी सरकार से अपील, गरीबों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति फ्री में करे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 + 19 =