देश-विदेश से जुटते हैं लाखों लोग, शांति और सुकून के लिए करते है धार्मिक स्थलों की यात्रा

4
loading...

जिंदगी की भागदौड़ के बीच कई बार हमारा मन करता है कि किसी ऐसी जगह घूम आएं, जहां मन को शांति मिल सके, थोड़ा सुकून मिल सके। धार्मिक यात्राएं शांति और सुकून पाने का एक बेहतर जरिया होती है। दरअसल, धार्मिक यात्राओं के जरिए न केवल आप खुद को ईश्वर के करीब महसूस करते हैं, बल्कि यह अपने आप को सकारात्मक ऊर्जा से भरने का भी जरिया होता है। आपने भी अपने माता-पिता, बच्चों, परिवार के साथ धार्मिक यात्राएं की होंगी। रोजमर्रा की जिंदगी से समय निकालकर हमें भी धार्मिक यात्राएं जरूर करनी चाहिए। आइए, जानते हैं देश की पांच महत्वपूर्ण धार्मिक जगहों के बारे में:

Mata Vaishno Dham, Jammu
जम्मू स्थित पहाड़ों की गोद में बसे पवित्र धाम वैष्णो देवी की यात्रा करने बड़ी संख्या में हिंदू धर्मावलंबी सालों भर जाते रहते हैं। मां वैष्णो देवी के लिए श्रद्धालुओं के मन में अलग ही आस्था होती है। फिर चाहे आपकी कोई मन्नत हो या फिर माता का दर्शन और आशीर्वाद लेना हो, मां के दरबार में लाखों लोग जाते हैं। कई बार ऐसा होता है कि हम सोचते रह जाते हैं, लेकिन प्लान नहीं बना पाते हैं। परिवार के साथ वैष्णो धाम की तीर्थयात्रा करना आपके लिए बेहतर अनुभव होगा।
वाराणसी
City of Kashi Vishwanath- वाराणसी। उत्तर प्रदेश का एक ऐसा शहर, जो भारतीय संस्कृति को समझने का एक अद्भुत माध्यम है। कभी देश के किसी हिस्से से कोई व्यक्ति यहां आकर बनारसी हो जाता है तो यहां आने वाले कई विदेशी भी यहीं के होकर रह जाते हैं। गंगा घाटों से लेकर विश्वनाथ मंदिर, सारनाथ, हनुमान मंदिर, भारत माता मंदिर समेत यहां कई जगहें हैं, जहां जाकर आप रिफ्रेश हो जाएंगे।फरवरी में प्लान बनाना चाहते हैं तो महाशिवरात्रि में यहां रहने का अलग ही अनुभव होगा।
Amritsar, Punjab
स्वर्ण मंदिर, जलियांवाला बाग, वाल्मीकि आश्रम, वाघा बॉर्डर, पंजाब का अमृतसर आपको हर कदम पर लाजवाब करता है। इतिहास की खूबसूरती के सभी रंग यहां दिखते हैं। सिखों के लिए तो यह पवित्र शहर है ही, हिंदुओं के लिए भी यह पावन नगरी है। इस शहर से भगवान राम और सीता का भी नाता है और रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि का भी जुड़ाव है। मान्यता है कि हनुमान जी भगवान राम के पुत्र लव और कुश के कब्जे से अश्वमेध यज्ञ के घोड़े को वापस लाने यहां आए थे। पावन वाल्मीकि तीर्थस्थल भी यहीं है। कहा जाता है कि महर्षि वाल्मीकि ने रामायण की रचना यहीं की थी। इन्हीं के आश्रम में माता सीता ने लव को जन्म दिया था और कुश भी यहीं प्रकट हुए थे। पर्यटकों के लिए यह शहर परफेक्ट डेस्टिनेशन होता है।
Mathura, Uttar Pradesh
अगर आपको भगवान कृष्ण का शहर देखना है तो मथुरा जरूर जाएं। मथुरा में यमुना नदी बहती है और इस पवित्र नदी पर 25 घाट बने हैं, लेकिन इन घाटों में सबसे ज्यादा महत्व विश्राम घाट का है क्योंकि यहां पर भगवान कृष्ण ने कंस को मारने के बाद विश्राम किया था। दुनियाभर से श्रद्धालु मथुरा आते हैं। यह मंदिरों का शहर है। यहां आप कृष्ण जन्मभूमि मंदिर, द्वारकाधीश मंदिर, जामा मस्जिद, कुसुम सरोवर, राधा कुंड और कृष्ण किला देख सकते हैं।
शहर की भागदौड़ भरी जिंदगी में सुकून चाहिए तो यात्राएं बेहतरीन विकल्प है। न केवल देश के किसी सुदूर जगह की, बल्कि विदेश की यात्रा करना तो हमेंं एक अलग ही अनुभव देता है। अक्सर लोगों का मानना होता है कि विदेश की यात्रा करना जेब पर भारी पड़ सकता है, लेकिन यह गलत है। जरूरी नहीं कि हर बार विदेश यात्रा महंगी ही हो। आज हम बताने जा रहे हैं एक ऐसे खूबसूरत और खुशहाल देश के बारे में जहां की यात्रा आपको जुलाई से पहले कर लेनी चाहिए। कारण कि इस देश की यात्रा का खर्च जुलाई से बढ़ने वाला है। तो आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से:
हम बात कर रहे हैं, भारत और चीन के बीच हिमालय की गोद में बसे भूटान देश की। यह देश भले ही छोटा सा हो, लेकिन खुशहाली के मामले में यह एशिया में पहले स्थान पर है। भूटान की खूबसूरती देखने के लिए दुनिया भर से पर्यटक आते हैं। प्रकृति की हसीन वादियों के बीच यहां आकर पर्यटक आनंदित हो उठते हैं। अगर आप भी भूटान घूमना चाहते हैं, तो जुलाई से पहले की प्लानिंग कर लें। ऐसा इसलिए, क्योंकि भूटान जाने वाले भारतीयों को जुलाई से Sustainable Development Fee के तौर पर 1200 रुपये देना पड़ेगा।
भूटान में पहले भारतीय पर्यटकों का प्रवेश नि:शुल्क था, लेकिन अब मालदीव और बांग्लादेशियों के साथ भारतीयों को भी जुलाई से बढ़ा हुआ किराया देना होगा। हालांकि अन्य देशों के पर्यटकों की तुलना में भारतीयों पर लगाया जाने वाला अतिरिक्त शुल्क कम ही है। कई अन्य देशों के पर्यटकों को 250 डॉलर अतिरिक्त देना पड़ेगा।
नई टूरिज्म पॉलिसी के तहत 5 साल से कम उम्र के बच्चों को इस फीस से छूट दी गई है, लेकिन 6 से 12 साल के बच्चों के लिए 600 रुपये प्रतिदिन तक चार्ज किया जाएगा।
भूटान पर्यटन निगम ने इसे पर्यटकों को बेहतर अनुभव देने की दिशा में एक सकारात्मक कदम बताया है। भूटान टूरिज्म काउंसिल के निदेशक दोरजी धारदुल के मुताबिक नई व्यवस्था से यात्रियों को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। इससे उनका यात्रा अनुभव और भी ज्यादा अच्छा हो जाएगा।
आप चाहें तो आईआरसीटीसी टूरिज्म की आधिकारिक वेबसाइट irctctourism.com पर जाकर भूटान के लिए आगामी टूर पैकेज की भी बुकिंग कर सकते हैं। आईआरसीटीसी के इस टूर पैकेज का नाम है- Adbhut Bhutan Ex Delhi है, जिसकी शुरुआत आगामी 25 मार्च को होगी। इस टूर पैकेज के तहत पर्यटक फ्लाइट में इकोनॉमी क्लास से सफर कर पाएंगे। खर्च की बात करें तो यह बहुत ज्यादा महंगा नहीं है।

इसे भी पढ़िए :  विराट कोहली से बिछड़कर दुखी हुईं अनुष्का शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen + seven =