मकर संक्रांति के लिए ठंड में ऐसे जमाएं दही; आएगा अलग ही स्वाद

27
loading...

नई दिल्ली, 12 जनवरी। इस साल 15 जनवरी यानी बुधवार को भारत में मकर संक्रांति का उत्सव मनाया जाएगा। इस साल नए साल की शुरुआत भी बुधवार से हुई थी और मकर संक्रांति भी बुधवार को ही है। बुधवार के अधिपति देव बुध हैं। बुध के आधिपत्य में आने वाले शिक्षा, सेना, श्रम, कला, शिल्प, साहित्य और कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों को सफलता मिलेगी और उन्नति होगी।

मकर संक्रांति के दिन सूर्य की पूजा, नदियों में पवित्र स्नान, देव दर्शन व दान-पुण्य करने वालों को विशिष्ट फल की प्राप्ति होती है। इस अवधि में स्नान-दान और दही-चूड़ा के साथ तिलकुट खाने का फल अत्यंत शुभकारी होता है।

इसे भी पढ़िए :  आम आदमी को निःशुल्क उच्च स्तरीय चिकित्सा प्राप्त हो, बजट में की जाए व्यवस्था

दही-चूड़ा के लिए दही जमाना ज़रूरी है, लेकिन गर्मी के मौसम के मुकाबले सर्दियों में दही जमाना मुश्किल होता है। गर्मियों में आप घर या किचन के किसी भी कोने में दूध में दही डालकर रख दें वो दो से तीन घंटों में आसानी से जम जाता है, लेकिन इससे उलट सर्दियों में दही को जमाना आसान नहीं है। आप कितनी भी मेहनत क्यों ना कर लें, सर्दियों में दही नहीं जमता। अगर आपको भी दही-चूड़ा के लिए दही चाहिए को ऐसे जमा सकते हैं।

इसे भी पढ़िए :  अब हाथ पर हाथ रखकर नहीं बैठा जा सकता

बता दें की सबसे पहले आप फुल क्रीम दूध फिर शुद्ध भैंस का दूध लें। इससे दही गाढ़ा जमेगा। जब तक ये दूध तीन से चार बार खौल न जाएं तब तक गर्म करें। उसके बाद गर्म दूध को ठंडा होने के लिए रख दें। जब दूध ठंडा हो जाए तो इसमें दो चम्मच दही डाल लें। जैसे अगर आपने आधा लीटर दूध लिया है तो उसमें दो चम्मच दही डाल लें। दूध में दही डालने के बाद उसे अच्छे से दो मिनट तक चलाएं। आप चाहे तो उसे अच्छे से फेंट भी सकते हैं। दूध को जितना फेंटेंगे वो उतना अच्छा जमेगा। फेंटने के बाद इसे ढककर ऐसी जगह रखें, जहां का तापमान बाकी जगहों से गर्म हो। जैसे रोटी रखने वाला हॉटकेस, आटे का डब्बा या फिर कुकर के अंदर बंद करके रखें। चार से सात घंटों में आपका बढ़िया क्वालिटी का गाढ़ा दही जमकर तैयार हो जाएगा।

इसे भी पढ़िए :  लोकतंत्र के मामले में 10वें स्थान से खिसककर 51वें पायदान पर देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था का पहुंचना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

14 − eleven =