मंत्री धर्मसिंह सैनी ने सही कहा मेडिकल काॅलेज के प्राचार्य का इस्तीफा हो मंजूर

8
loading...

अपमान तो किसी का भी किसी को नहीं करना चाहिए, लेकिन अगर कहीं कुछ कमी हो रही है तो जिसके कारण है उसे झेलने की प्रवृत्ति भी उसे अपने अंदर समाहित करनी चाहिए। प्रदेश सरकार को खासकर यूपी के स्वास्थ्य मंत्रालय को सहारनपुर के राजकीय मेडिकल काॅलेज के प्राचार्य डा अरविंद त्रिवेदी का इस्तीफा जनहित में तुरंत स्वीकार करना चाहिए। क्योंकि यह कोई नई बात नहीं है प्रदेशभर के जितने भी सरकारी मेडिकल काॅलेज और अस्पताल है उनके प्राचार्या और डाॅक्टर अपने आप में चाहे कितना भी मियां मिठठू बन लें, लेकिन ना तो वो शासन की नीतियों के अनुकूल चिकित्सा सुविधा पात्र व्यक्तियों को उपलब्ध करा पाते है और ना ही मरीज या अभिभावक उनकी कार्य प्रणाली से संतुष्ट होते हैं। ऐसे में जिले के प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही की मौजूदगी में राज्यमंत्री डा धर्मसिंह सैनी द्वारा मेडिकल काॅलेज में पौधारोपण के दौरान यह मुददा उठाने पर कि मेडिकल में उच्च स्तरीय चिकित्सा उपकरण और सभी सुविधाएं मौजूद होने के बावजूद गरीबों को उचित चिकित्सा उपलब्ध नहीं कराई जाती से नाराज होकर प्राचार्य द्वारा इस्तीफा दे दिया गया। मुझे लगता है कि जिले के रहने वाले मंत्री अपने यहां के बारे मेें सबकुछ जानते हैं क्योंकि परेशान नागरिक अपनी समस्याएं लेकर उनसे मिलने आते हैं, इसलिए नागरिकों को क्या-क्या परेशानी है, उन्हें यह जानकारी रहती है। अब अगर समय पर उसका उल्लेख समय पर नहीं किया जाएगा तो दोबारा चुनाव मैदान में जनता को क्या जवाब दिया जाएगा। मुझे लगता है कि मंत्री धर्मसिंह सैनी ने सही कहा कि चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने में असफल त्रिवेदी जी का इस्तीफा तुरंत स्वीकार करना चाहिए। जिससे भविष्य में सरकारी अस्पतालों और मेडिकलों में सुधार की संभावना को बल मिल सके।

इसे भी पढ़िए :  मोबाइल बैन करने के बावजूद ‘Dabangg3’ के सेट से Salman Khan-Sonakshi Sinha की फोटो लीक

– रवि कुमार बिश्नोई
संस्थापक – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना
राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय समाज सेवी संगठन आरकेबी फांउडेशन
सम्पादक दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
आनलाईन न्यूज चैनल ताजाखबर.काॅम, मेरठरिपोर्ट.काॅम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × 1 =